Woman Donated Wads Of Notes In Ram Mandir Fact Check

अयोध्या का नवनिर्मिंत राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के बाद से ही काफी चर्चा में है। वहीं इससे जुड़ी कई फर्जी खबरें और दावे भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहे हैं। इस बीच अब हाल ही में सोशल मीडिया पर राम मंदिर से जुड़ा एक वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें कुछ महिलाएं दान पेटी में नोटों की गड्डी डालती नजर आ रही हैं। वहीं इस वीडियो को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो राम मंदिर का है।

क्या है वायरल?

दरअसल, इस वीडियो को ‘Parass Jethva‘ नाम के फेसबुक यूजर ने शेयर किया है। इस वीडियो में अयोध्या राम मंदिर के राम लला की तस्वीर का भी इस्तेमाल किया गया है। ऐसे में इस वीडियो को देखकर सभी को ये प्रतीत हो रहा है कि दान पेटी में चढ़ावा चढ़ाती महिला का ये वीडियो राम मंदिर का है।

हालांकि टूडे समाचार ने अपनी पड़ताल में पाया है कि इस वीडियो का राम मंदिर से कोई संबंध ही नहीं है। दरअसल, यह वीडियो सितंबर 2023 से सोशल मीडिया पर मौजूद है, जबकि राम मंदिर का प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम ही 22 जनवरी 2024 को हुआ है। ऐसे में जाहिर है कि ये वीडियो पुराना है, जिसे राम मंदिर से जोड़कर भ्रामक दावे के साथ शेयर किया जा रहा है।

फैक्टचेक

टूडे समाचार ने अपनी पड़ताल की शुरूआत करते हुए सबसे पहले इस वीडियो के कुछ कीफ्रेम्स को लेकर इसे गूगल रिवर्स इमेज टूल की मदद से सर्च किया। इस दौरान हमें sethji_kadiwana नाम के इंस्टाग्राम हैंडल पर ये असली वीडियो मिला, जिसे 10 सितंबर 2023 को शेयर किया गया था। वहीं इस वीडियो में दी गई जानकारी के अनुसार ये वीडियो सांवलिया सेठ के मंदिर का है।

वहीं वीडियो के साथ यूजर ने कैप्शन में लिखा है, “भादसोडा सवालिया जी पर एक महिला ने 10 लाख रुपये सवालिया जी के भण्डार में डाले। सेठो के सेठ श्री सांवरिया सेठ की जय।”

वहीं इसके बाद पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए हमने गूगल ओपन सर्च टूल का इस्‍तेमाल किया और इस दौरान हमें ‘Asianet News हिंदी’ की वेबसाइट पर इससे जुड़ी एक खबर मिली, जिसे 11 सितंबर 2023 को पब्लिश किया गया था। इस खबर में फीचर इमेज के तौर पर वायरल वीडियो के स्क्रीनशॉट्स का ही इस्तेमाल किया गया था, जिसमें महिला दानपेटी में नोटो की गड्डी डालती नजर आ रही है।

वहीं इस खबर में बताया गया है कि, “चित्तौड़गढ़ के सांवलिया सेठ यानि भगवान कृष्ण के दर्शन करने देश ही नहीं, दुनिया भर से लोग आते हैं। भक्त मनोकमाना पूरी होने पर करोड़ों का दान करते हैं। अब एक महिला का वीडियो वायरल हो रहा है। जहां उसने दो मिनट के अंदर 10 लाख रुपये ईश्वर को अर्पित किए।”

वहीं इसके बाद इसपर अधिक स्पष्टिकरण के लिए हमने आगे दैनिक जागरण, अयोध्‍या के संपादकीय प्रभारी रमा शरण अवस्थी से संपर्क किया और उनसे वायरल वीडियो के बारे में पूछा, तो इस दौरान उन्होंने हमें बताया कि, राम मंदिर में काफी चढ़ावा चढ़ रहा है, लेकिन वायरल वीडियो राम मंदिर का नहीं है।

ऐसे में टूडे समाचार की इस पड़ताल से ये साबित हो गया कि वायरल वीडियो का राम मंदिर से कोई संबंध नहीं है। ये वायरल वीडियो सितंबर 2023 से सोशल मीडिया पर मौजूद है, जबकि राम मंदिर का प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम ही 22 जनवरी 2024 को हुआ है।

Verify information accuracy with fact-checking: scrutinize claims, cross-reference sources, and confirm data to ensure reliability and combat misinformation.