Noida Farmer's Protest Viral Video Fact Check
Noida Farmer's Protest Viral Video Fact Check

सोशल मीडिया पर इन दिनों मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम से जुड़ा एक वीडियो काफी जमकर वायरल हो रहा है, जिसमें सोशल मीडिया यूजर्स दावा कर रहे हैं कि मुख्‍यमंत्री पद पर शिवराज सिंह चौहान को फिर से लाने के लिए जनता सड़क पर उतर आई है। इस वीडियो पर काफी लोग भरोसा भी कर रहे हैं क्योंकि वीडियो में लोगों को साफ नारा लगाते हुए सुना जा सकता है कि “हमारा सीएम वापस दो।”

क्या हो रहा है वायरल?

दरअसल, सुनील रायकवर नाम के इंस्टाग्राम यूजर ने इस वीडियो को 24 दिसंबर को अपने हैंडल पर पोस्ट किया है। इसके साथ ही वीडियो के ऊपर टेक्सट लिखा हुआ है, “शिवराज सिंह चौहान को वापस CM पद पर लाने को लेकर जनता आ रही है खोलकर सामने।” अब इस पोस्ट को सच मानकर कई और यूजर्स इसे जमकर शेयर कर रहे हैं।

हालांकि टूडे समाचार ने जब इस वीडियो की जांच की तो पाया गया कि ये वीडियो नोएडा में किसानों के प्रदर्शन का है, जिसके साथ छेड़छाड़ करके इस वायरल वीडियो को तैयार किया गया है। दरअसल, इस वीडियो में टेक्सट और ऑडियो अलग से जोड़कर इसे भ्रामक बनाया गया है ताकि लोग इसपर भरोसा कर लें। हालांकि हमारी पड़ताल में इस वीडियो को फर्जी पाया गया है।

फैक्टचेक

टूडे समाचार की टीम ने जब इस वीडियो के कई की फ्रेम्स के जरिए गूगल लेंस टूल के इस्तेमाल से इसे सर्च किया तो हमें यू-ट्यूब पर नोएडा ऑथरिटी पर किसानों के द्वारा प्रदर्शन से जुड़ी कई रिपोर्टस मिलीं। इस दौरान सबसे पहले हमें टाइम्स नाउ नवभारत के यू-ट्यूब चैनल की एक वीडियो मिली, जिसे 12 दिसंबर को अपलोड किया गया था। इस वीडियो में दी गई जानकारी के मुताबिक, नोएडा में किसानों का ने अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया और प्राधिकरण का घेराव किया है।

इस वीडियो को जब हमारी टीम ने देखना शुरू किया तो 1 मिनट के बाद लगभग हमें वहीं शख्स दिखा, जो वायरल वीडियो में नजर आ रहा था। इस दाढ़ी वाले और गले में हरे दुपट्टा डाले शख्स को दोनों ही वीडियो में साफ-साफ देखा गया।

वहीं इस पड़ताल के दौरान आगे की सर्च में आखिरकार हमें Atul Yadav Socialist नाम के एक फेसबुक यूजर के पेज पर इस वायरल वीडियो का असली वर्जन मिला, जिसमें कैप्‍शन में लिखा गया है कि “हजारों किसान उतरे नोएडा की सड़कों पर। किया बड़ा आंदोलन।” इस वीडियो को 11 दिसंबर को अपलोड किया गया था।

ऐसे में जब टूडे समाचार की टीम ने पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए सीधे अतुल यादव से ही संपर्क किया। इस दौरान जब वायरल वीडियो के बारे में उन्हें बताया गया तो उन्होंने खुलासा करते हुए कहा, “वायरल वीडियो का मध्‍य प्रदेश से कोई संबंध नहीं है। यह नोएडा में किसानों के प्रदर्शन का वीडियो है।”

ऐसे में अब टूडे समाचार की पड़ताल से ये साफ हो गया कि ये वीडियो नोएडा किसान प्रदर्शन के दौरान का है, जिसमें अलग टेक्सट और ऑडियो एडिट करके सोशल मीडिया पर गलत दावे के साथ अपलोड किया गया है।

Verify information accuracy with fact-checking: scrutinize claims, cross-reference sources, and confirm data to ensure reliability and combat misinformation.