Maruti Suzuki Swift Facelift
Maruti Suzuki Swift Facelift

Maruti Suzuki कंपनी ने पिछले कुछ दशकों में भारतीय मार्केट में अपना दबदबा कायम रखा है। इस कंपनी ने नई गाड़ियों के प्रोडक्शन के साथ-साथ अपनी लोकप्रिय गाड़ियों को अपडेट कर नए वेरिएंट को लॉन्च करने पर भी खासा ध्यान दिया है। ऐसे में इसी प्रथा को जारी रखते हुए अब Maruti Suzuki ने अपनी लोकप्रिय कार Swift के नए वेरिएंट को भारतीय मार्केट में लॉन्च करने की प्लानिंग कर ली है।

इस वेरिएंट का नाम है – Maruti Suzuki Swift Facelift, जिसे जापान में बीते साल 6 दिसंबर को ही लॉन्च कर दिया गया है। वहीं अब भारत में इसकी टेस्टिंग जारी है। ऐसे में अप्रैल 2024 तक ये नया मॉडल भारतीय मार्केट में एंट्री ले सकता है। तो आइए जानते हैं Maruti Suzuki Swift Facelift के फीचर्स और संभावित कीमत के बारे में –

Maruti Suzuki Swift Facelift के फीचर्स

Maruti Suzuki Swift Facelift को पहले से बेहतर और आधुनिक फीचर्स से लैस करते हुए मार्केट में लॉन्च किया जा सकता है। इस कार में आपको 360 डिग्री कैमरा, रिवर्स कैमरा, पावर स्टीयरिंग ,डिजिटल स्पीडोमीटर ,ऑडोमीटर, टेकोमीटर और 10.25 इंच की टच स्क्रीन डिस्प्ले तो मिलती ही है।

वहीं इसके साथ ही आपको ट्यूबलेस टायर ,19 इंच मेटल एलॉय व्हील, टच स्क्रीन डिस्प्ले ,ब्लूटूथ कनेक्टिविटी ,जीपीएस सिस्टम, इंटरनेट कनेक्टिविटी, स्लिक बॉडी, डैशिंग लुक, फोग लाइट, एलईडी लाइट लैंप, हाइलोजन लैंप, डिजिटल इंडिकेटर, साइड मिरर और आटो पुश बटन स्टार्ट जैसे शानदार फीचर्स भी देखने को मिल जाते हैं।

Maruti Suzuki Swift Facelift का पावरफुल इंजन

Maruti Suzuki Swift Facelift में बेहतर परफॉर्मेंस के लिए 1.2 लीटर तीन सिलेंडर पेट्रोल इंजन दिया गया है, जो 81bhp की अधिकतम पावर और 107Nm का टॉर्क जेनरेट करने की क्षमता रखता है।

Maruti Suzuki Swift Facelift का शानदार माइलेज

बता दें कि Maruti Suzuki Swift Facelift में आपको लगभग 22 किलोमीटर प्रति लीटर का माइलेज देखने को मिल जाता है।

Maruti Suzuki Swift Facelift की संभावित कीमत

Maruti Suzuki Swift Facelift की कीमत की बात करें तो इस कार की कीमत को लेकर अबतक कंपनी ने कोई खुलासा नहीं किया है, लेकिन रिपोर्ट्स की मानें तो इसे बढ़े हुए फीचर्स और बेहतर इंजन के कारण इसकी कीमत पहले से ज्यादा हो सकती है।

Verify information accuracy with fact-checking: scrutinize claims, cross-reference sources, and confirm data to ensure reliability and combat misinformation.