Free Recharge In The Name Of Ram Mandir Fact Check
Free Recharge In The Name Of Ram Mandir Fact Check

अयोध्या राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में बस चंद दिन बाकी रह गए हैं। ऐसे में समारोह की तैयारियों के साथ सोशल मीडिया पर राम मंदिर से जुड़े कई फर्जी दावे भी वायरल होने लगे हैं। ऐसा ही एक दावा है, जिसे सोशल मीडिया पर जमकर शेयर किया जा रहा है और कहा जा रहा है कि राम मंदिर स्थापित होने की खुशी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम योगी पूरे भारत को 3 महीने का फ्री रिचार्ज दे रहे हैं। इस पोस्ट के साथ एक लिंक भी शेयर किया जा रहा है।

क्या है वायरल?

दरअसल, ‘Balmiki Kumar Kushwaha’ (आर्काइव लिंक) नाम के फेसबुक यूजर ने इस पोस्ट को अपने पेज पर शेयर किया है और लिखा –  “Ram Mandir ऑफर:  22 January को अयोध्या में राम मंदिर स्थापित होने की खुशी में मोदी और योगी दे रहे हैं पूरे भारत को फ्री के ₹749 बाला 3 महीने का रिचार्ज |  तो अभी निचे नीले रंग की लिंक पर क्लिक करके अपने नंबर पर रिचार्ज करे।”

हालांकि टूडे समाचार ने अपनी पड़ताल में पाया है कि राम मंदिर के नाम पर फ्री रिचार्ज देने का दावा गलत है। दरअसल, इसमें यूज किया गया लिंक भी एक फिशिंग लिंक है, जिससे लोग धोखाधड़ी का शिकार हो सकते हैं।

फैक्टचेक

टूडे समाचार ने अपनी पड़ताल की शुरूआत करते हुए सबसे पहले इस पोस्ट से संबंधित कीवर्ड्स को गूगल पर सर्च किया। इस दौरान हमें वायरल दावे से जुड़ी कोई खबर नहीं मिली।

ऐसे में अपनी पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए हमारी टीम ने BJP के ऑफिशियल और वेरिफाइड हैंडल्स को खंगाला, लेकिन इस दौरान भी हमें ऐसा कुछ नहीं मिला, जो इस वायरल दावे की पुष्टि करता हो। वहीं भाजपा की आधिकारिक वेबसाइट पर भी इस वायरल दावे से जुड़ी कोई जानकारी उपलब्ध नहीं मिली।

इसके बाद हमने वायरल पोस्ट पर गौर किया तो हमने पाया की यूजर ने वायरल पोस्ट के साथ रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी की तस्वीर का इस्तेमाल किया था। ऐसे में हमारी टीम ने पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए जियो के सोशल मीडिया अकाउंट्स और वेबसाइट को भी खंगाला, लेकिन यहां पर भी हमें वायरल दावे से जुड़ी कोई खबर नहीं मिली।

वहीं इसके बाद हमने वायरल लिंक को भी ओपन करके देखा, तो हमें पता लगा कि ये वायरल लिंक (mahacashhback.in) किसी भी तरह से भारत सरकार से संबंधित नहीं है।

वहीं अंत में हमने वायरल दावे पर स्पष्टिकरण के लिए जब इंडियन साइबर आर्मी के संस्थापक किश्लय चौधरी से संपर्क किया और वायरल दावे और लिंक के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि, इस तरह के मैसेज के साथ फिशिंग लिंक भेजकर लोगों को फंसाया जाता है। यूजर्स को चाहिए कि वो ऐसे लिंक्स पर क्लिक करने से पहले उसके बारे में जानकारी हासिल करें। आधिकारिक वेबसाइट और सोशल मीडिया हैंडल्स को चेक करें।

ऐसे में टूडे समाचार की इस पड़ताल के बाद हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि राम मंदिर के नाम पर 3 महीने का फ्री रिचार्ज देने का दावा पूरी तरह से फर्जी है। साथ ही इसके साथ दिया गया लिंक भी फिशिंग लिंक है, जो लोगों के साथ धोखाधड़ी करने के इरादे से दिया गया है।

Verify information accuracy with fact-checking: scrutinize claims, cross-reference sources, and confirm data to ensure reliability and combat misinformation.