Dalit Women Raped By Higher Caste Men Viral Video Fact Check
Dalit Women Raped By Higher Caste Men Viral Video Fact Check

सोशल मीडिया पर इन दिनों एक आपत्तिजनक वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें एक शख्स किसी महिला के साथ जोर-जबरदस्ती कर उसे निर्वस्त्र करने की कोशिश करता नजर आ रहा है। इस वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर कर यूजर्स दावा कर रहे हैं कि वीडियो में दिख रही पीड़ित महिला दलित है, जबकि आरोपी पुरुष उच्च जाति के हैं।

वायरल वीडियो के जरिए दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो राजस्थान का है, जहां इन पुरुषों ने दलित महिला के घर में घुस-घुस कर उसका बलात्कार किया है।

क्या है वायरल दावा?

इस वीडियो को एक्स यूजर Abdul Quadir Khan ने अपने हैंडल पर शेयर किया है और साथ ही लिखा, “#राजस्थान में ऊंची जाति के इन अपराधियों ने #दलित_महिला के घर घुस किया #बलात्कार। यह वहशी दरिंदे महिलाओं को नोच खाने में फख्र समझते हैं और इसी हिंदू धर्म में महिलाओ की पूजा होती है।”

वहीं दूसरी तरफ Kavita Yadav नाम की एक और एक्स यूजर ने इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा, “राजस्थान में ऊंची जाति के इन अपराधियों ने दलित महिला के घर घुस किया बलात्कार. यह वहशी दरिंदे छोटी जाति की निहत्ती महिलाओं को ही क्यों नोच खाने को उतावले हुए रहते हैं?”

हालांकि टूडे समाचार ने जब इस वीडियो की पड़ताल की तो पाया कि इस वीडियो में दिख रही घटना तो राजस्थान की है। यहां तक सही है। हालांकि इसमें दिख रहे महिला और पुरूष पति-पत्नी हैं और मीणा समुदाय से हैं।

फैक्टचेक

दरअसल, टूडे समाचार की टीम ने जब इस वीडियो के की फ्रेम्स की मदद से रिवर्स इमेज सर्च किया तो हमें इस वीडियो से संबंधित कई न्यूज रिपोर्ट्स मिलीं। इस रिपोर्ट्स में वायरल वीडियो के स्क्रीनसॉट्स पाए गए।

इस दौरान हमें 2 सितबंर, 2023 की दैनिक भास्कर की एक रिपोर्ट मिली, जिसके मुताबिक हमें पता चला कि ये घटना राजस्थान के प्रतापगढ़ जिले के धरियावद इलाके की है, जहां वीडियो में दिख रही महिला को निर्वस्त्र कर घुमाने का मामला सामने आया था।

इस रिपोर्ट में दी गई जानकारी के अनुसार वीडियो में महिला को निर्वस्त्र करने की कोशिश करता नजर आ रहा शख्स उस महिला का पति ही है, जिसने पीड़िता को निर्वस्त्र कर उसे पूरे गांव में एक किलोमीटर तक दौड़ाया था।

रिपोर्ट के मुताबिक इस घटना के समय महिला छह महीने की गर्भवती थी, जब महिला को घुमाया जा रहा था उस वक्त कई लोग मौजूद थे। इतना ही नहीं बल्कि जानकारी के अनुसार महिला का प्रेमी उसे साल भर पहले भगा ले गया और शादी के बाद उसने फिर अपने प्रेमी के साथ भागने की कोशिश की। इसके बाद पति और ससुराल वालों ने उसका पीछा किया और महिला का अपहरण कर अपने गांव ले आए और फिर उसे निर्वस्त्र कर मारपीट की गई और गांव में 1 किलोमीटर तक निर्वस्त्र ही दौड़ाया गया। मामले में सीएम गहलोत ने पुलिस से सख्त से सख्त एक्शन लेने का आदेश दिया। इसके बाद पुलिस एक्शन में आई और मुख्य आरोपी समेत 10 लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

दी लल्लनटॉप” की रिपोर्ट की मानें तो इस मामले में आरोपियों के खिलाफ IPC की धारा 294, 354, 365 और IT एक्ट की धारा 67 के तहत शिकायत दर्ज की गई थी। साथ ही एफआईआर में पीड़ित महिला को आदिवासी समुदाय का बताया गया था, जबकि पति का नाम कणा मीणा दिया हुआ है।

इस मामले में जुड़े सभी आरोपी मीणा समुदाय के ही थे, जिन्हें राजस्थान में आदिवासी समुदाय का दर्ज दिया गया है। ऐसे में इससे ये साफ हो जाता है कि इस मामले में कोई जातिय एंगल नहीं है।

ऐसे में टूडे समाचार की इस पड़ताल में ये साबित हो गया है कि वायरल वीडियो में दिख रही घटना राजस्थान की जरुर है, लेकिन वीडियो में दिख रहे महिला और पुरुष पति-पत्नी ही हैं। साथ ही इस वीडियो को कोई जातिय एंगल भी नहीं है। ऐसे में ये वीडियो भ्रामक दावे के साथ सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है।

टूडे समाचार की तरफ से हम आपसे अनुरोध करते हैं कि ऐसे किसी भी भ्रामक दावे या वीडियो पर भरोसा ना करें, बल्कि इसकी जगह हर एक वायरल खबर या रिपोर्ट की पुष्टि कर लें।

Verify information accuracy with fact-checking: scrutinize claims, cross-reference sources, and confirm data to ensure reliability and combat misinformation.