307km रेंज वाली इस इलेक्ट्रिक बाइक के सामने तो KTM भी है फेल…ब्रांडेड फीचर्स के साथ मिलती है तगड़ी स्पीड भी

Ankit Singh

By Ankit Singh

Published on:

भारतीय ऑटोमोबाइल मार्केट में इन दिनों इलेक्ट्रिक टू व्हीलर्स की डिमांड काफी ज्यादा बढ़ गई है, जिसका मुख्य कारण है पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतें। लोग भी अब महंगाई की मार से परेशान होकर इलेक्ट्रिक वाहनों को ही लेने लगे हैं। इसमें इलेक्ट्रिक स्कूटर्स और बाइक्स की मांग काफी ज्यादा है।

तो अगर आप भी एक बेहतरीन इलेक्ट्रिक बाइक की तलाश में है, जिसमें आपको स्पोर्टी और स्टाइलिश लुक के साथ ब्रांडेड फीचर्स और लंबी रेंज भी मिल जाए तो Ultraviolet F77 Electric Bike आपके लिए शानदार विकल्प बन सकती है। तो आइए जानते हैं कि आखिर क्या है इसमें ऐसा खास –

फीचर्स मिलते हैं काफी एडवांस

Ultraviolet F77 Electric Bike को खरीदने का मुख्य कारण हो सकता है इसमें दिए हुए आधुनिक और ब्रांडेड फीचर्स, जो लोगों को सुविधा प्रदान करते हैं। इसमें आपको डिजिटल स्पीडोमीटर, ओडोमीटर, ब्लूटूथ कनेक्टिविटी, यूएसबी चार्जर, वन टच सेल्फ स्टार्ट, रिमोट अनलॉक, वन टच सेल्फ स्टार्ट, डिजिटल कंसोल, डिजिटल इंस्ट्रूमेंट, एंटीलॉग ब्रेकिंग सिस्टम और डिजिटल इंडिकेटर जैसे फीचर्स देखने को मिल जाते हैं।

रेंज भी मिलती है शानदार

ज्यादा से ज्यादा लंबी दूरी कवर करने और दमदार परफॉर्मेंस के लिए Ultraviolet F77 Electric Bike में 10.7 Kwh की लिथियम आयन बैटरी का उपयोग किया गया है, जो इस बाइक को सिंगल चार्ज में लगभग 307 किलोमीटर की रेंज आसानी से तय करने में मदद करती है।

वहीं इसके अलावा इस बाइक में 4 Kw का बीएलडीसी मोटर भी दिया गया है, जो इसे 152 किलोमीटर प्रति घंटे की टॉप स्पीड से दौड़ने में सक्षम बनाता है। बता दें कि इसकी मोटर इतनी ज्यादा पावरफुल है कि स्टार्ट होने के मात्र 7.6 सेकंड के अंदर ये बाइक 100km/hr के टॉप स्पीड पकड़ने की क्षमता रखती है।

कीमत भी है किफायती

कीमत की बात की जाए अगर तो Ultraviolet F77 Electric Bike की शुरूआती एक्सशोरुम कीमत कंपनी द्वारा 3.80 लाख रुपए रखी गई है। ऐसे में अगर आपका बजट ठीक है और आप बेहतरीन लुक से लेकर धांसू फीचर्स वाली इलेक्ट्रिक बाइक की तलाश भी कर रहे हैं, तो Ultraviolet F77 आपके लिए सबसे बेहतरीन विकल्प बन सकती है।

Ankit Singh

Verify information accuracy with fact-checking: scrutinize claims, cross-reference sources, and confirm data to ensure reliability and combat misinformation.