प. बंगाल में लागू होगा राष्ट्रपति शासन !, केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहा

 

रिपोर्ट : रितिका आर्या

नई दिल्ली : शुक्रवार को पश्चिम बंगाल के हावड़ा में बीजेपी की रैली के दौरान एक सिख व्यक्ति और उसकी पगड़ी से जुड़े विवाद को लेकर केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहा कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की सख्त जरूरत है।सुप्रियो ने राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर वार करते हुए कहा कि ममता सरकार विपक्षी दलों को दबानेका प्रयास कर रही है। सुप्रियो ने कहा कि वो ( सीएम ममता) शायद वह ज़मीनी स्तर पर अपने संघर्ष को भूल गयी हैं।

बता दें, इस मामले को लेकर सुप्रियो ने कहा कि गुरुवार को बीजेपी की रैली के दौरान हुई घटना योजनाबद्ध थी। उन्होंने कहा, “गुरुवार को बीजेपी की रैली के दौरान योजनाबद्ध तरीके सेसिख समुदाय के एक सदस्य को अलग करते हुए उनके साथ मारपीट की घटना को अंजाम दिया गया। उनकी पगड़ी तक खींच दी गई थी

क्या है पूरा मामला

शुक्रवार को पश्चिम बंगाल के हावड़ा में बीजेपी की रैली के दौरान पुलिस द्वारा एक सिख पुरुष के साथ कथित तौर पर मारपीट और उसकी पगड़ी खींचने के मामले में बड़ा विवाद छिड़ गया। हालांकि इस मामले पर जानकारी देते हुए पुलिस ने कहा, ‘सिख अपने साथ एक पिस्टल ले जा रहा था और उसे छीनने के दौरान पगड़ी अपने आप गिर गई।

तृणमूल कांग्रेस सरकार जिम्मेदार- बीजेपी

बीजेपी ने सीएम ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस सरकार पर सिखों की भावनाओं को आहत करने का आरोप लगाया है। वहीं इस घटना के दृश्य वायरल होने के बाद, पश्चिम बंगाल पुलिस ने शुक्रवार को ट्वीट किया, “संबंधित व्यक्ति कल के प्रदर्शन में पिस्टल ले जा रहा था। तभी हाथापाई के दौरान पगड़ी अपने आप गिर गई। हमारा कभी भी किसी समुदाय की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का इरादा नहीं था।

'बाबुल राजनीति में नौसिखिया हैं'

केंद्रीय मंत्री के बयान पर पलटवार करते हुए, टीएमसी सांसद सौगत रॉय ने कहा कि सुप्रियो नौसिखिया हैं और उन्हें उन परिस्थितियों की जानकारी नहीं है जिनमें राष्ट्रपति शासन लगाया जाता है। उन्होंने कहा- बाबुल राजनीति में एक नवागंतुक हैं, कुछ साल पहले ही बीजेपी में शामिल हुए हैं। उन्हें नहीं पता कि वे क्या कहते हैं। उन्हें नहीं पता कि अनुच्छेद 365 को लागू करने से पहले, अनुच्छेद 355 के तहत केंद्र द्वारा एक सलाह जारी की जाती है।"

ग़ौरतलब है कि बीजेपी नेता मनीष शुक्ला की इस महीने की शुरुआत में टीटागढ़ में बंदूकधारी हमलावरों द्वारा गोली मारकर हत्या कर दी गई जिसके बाद बीजेपी ने पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ टीएमसी पर हत्या का आरोप लगाया है। वही सितंबर में, अल-कायदा से जुड़े छह लोगों को NIA ने मुर्शिदाबाद जिले में गिरफ्तार किया था।

From around the web