दिलीप घोष की टीएमसी को बड़ी चेतावनी, 6 महीने में सुधर जाएं, नहीं तो तोड़ दिये जाएंगे...

 

नई दिल्ली : पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव होने में अभी काफी समय बचा है, उससे पहले ही एक तरफ जहां पूर्व बीजेपी अध्यक्ष एवं वर्तमान गृहमंत्री अमित शाह लगातार रैलियां कर रहे है। वहीं दूसरी तरफ टीएमसी नेता और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी लगातार रैलियां कर रहे है। आपको बता दें कि इन्ही सब जोर आजमाइश के बीच पश्चिम बंगाल के बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने बड़ा विवादित बयान दिया है।

दिलीप घोष ने चेतावनी भरे लहजे में टीएमसी को चेतावनी देते हुए कहा कि, "ममता दीदी के लोग जो शरारत करते हैं उनसे कहना चाहता हूं कि वह 6 महीने में खुद को ठीक कर लें, नहीं तो उनके हाथ, पैर, पसलियां और सिर तोड़ दिए जाएंगे। घोष ने कहा कि आपको घर जाने से पहले आपको अस्पताल जाना होगा। दिलीप घोष ने कहा कि अगर उनकी शरारत बढ़ती है तो उन्हें श्मशान भेज दिया जाएगा।"

गौरतलब है कि जो बीजेपी अक्सर अपने चुनावी रैली और संबोधन के दौरान ममता दीदी को कानून का पाठ पढ़ाती रहीं हैं। अब उसी पार्टी के अध्यक्ष हिंसक रास्ता अख्तियार करने की बाते कर रहे है। आपको बता दें कि इससे पहले दिलीप घोष ने हल्दिया में एक रैली को संबोधित करने के दौरान सीएम ममता बनर्जी को को "साड़ी पहने हुए हिटलर" करार दिया। इसके साथ ही घोष ने यह भी दावा किया कि आगामी विधानसभा चुनावों में बीजेपी 200 सीटें जीतेगी।

आपको बता दें कि 2021 में पश्चिम बंगाल में विधानसभा के चुनाव होने है, जो 294 सीटों पर होगी। इसे लेकर शाह अभी से ही ममता के किले की घेरा बंदी कर रहे है, जिसे लेकर उन्होंने राज्य में हो रहें राजनीतिक हत्याओं को लेकर ममता सरकार को श्वेत पत्र लाने की चुनौती दी थी। वहीं उन्होंने पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) को अपराध के आंकड़े नहीं भेजे जाने को लेकर भी हैरानी जताई।

शाह ने संशोधित नागरिकता कानून के लागू होने का जिक्र करते हुए कहा कि कानून अपनी जगह है और यह केंद्र सरकार का संकल्प है।

From around the web