पीड़ित परिवार से मिलने के दौरान सपा कार्यकर्ताओं ने किया धारा-144 का उल्लंघन, पुलिस ने चटकाई लाठियां

 

नई दिल्ली : हाथरस गैंगरेप मामले में लगातार नेताओं का गुट पीड़िता के परिवार से मिलने जा रहा है, और उन्हें सांत्वना देने के साथ ही योगी सरकार पर जमकर हमला भी कर रहे है। आपको बता दें कि इसी दौरान सपा नेताओं को अपने कार्यकर्ताओं के साथ हाथरस जाना भारी पड़ गया और उन्हें पुलिस की लाठियां खानी पड़ी। गौरतलब है कि योगी प्रशासन द्वारा पीड़ित परिवार से नेताओं के मिलने पर रोक लगाने और उन्हें बैरंग ही वापस लौटाने के बाद कोर्ट ने हस्तक्षेप करते हुए एक निर्धारित संख्याओं के साथ मिलने के आदेश दिया।

आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले ही मजिस्ट्रेट ने समाजवादी पार्टी के 5 लोगों को ही मिलने की इजाजत दी थी, लेकिन सपा ने उनके आदेश को दरकिनार करते हुए 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल को भेजा जाना था। वहीं पीड़ित परिवार से मिलने सपा का प्रतिनिधिमंडल कार्यकर्ताओं की भीड़ के साथ गांव में पहुंचा। जिसके कारण धारा 144 का उल्लंघन होने के कारण पुलिस को सभी कार्यकर्ताओं को खदेड़ना पड़ा और लाठियां भी चटकाना पड़ा।

आपको बता दें कि हाथरस में पीड़िता के परिवार से मिलने के लिए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मात्र 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल को हाथरस जाने का निर्देश दिया था। वहीं इस प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व यूपी सपा अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल कर रहे थे। इस प्रतिनिधिमंडल में रामजी लाल सुमन, धर्मेन्द्र यादव, अक्षय यादव, जुगल किशोर वाल्मिकी, जसवंत यादव, उदयवीर सिंह, संजय लाठर, अतुल प्रधान, राम करण निर्मल, राम गोपाल बघेल को शामिल किया गया था।

वहीं सपा राष्ट्रीय महासचिव रामजी लाल सुमन ने कहा कि प्रशासन का रवैया शुरू से ही अविश्वसनीय रहा है। जिस तरह अंतिम संस्कार किया वो शक पैदा करता है​ कि कहीं न कहीं नियत में खोट है, तथ्यों को छुपाया जा रहा है। समाज​वादी पार्टी की मांग है कि उच्चतम न्यायालय के वर्तमान न्यायधीश से जांच कराई जाए।

From around the web