कोरोना काल में भी नहीं रूके पीपल बाबा, बनाया अनोखा रिकॉर्ड

 

नई दिल्ली : एक तरफ जहां पूरे देश में कोरोना महामारी को लेकर हाहाकर मचा हुआ था। सरकार से लेकर स्वास्थ महकमा, यहां तक की शोधकर्ता भी इस महामारी से लड़ने को लेकर शोध कर रहें थे। इसी बीच देश में पीपल बाबा के नाम से मशहूर पर्यावरण कर्मी ने एक ऐसा रिकॉर्ड कायम किया है, जिससे आजीवन मानव जाति उनकी ऋणी रहेगी। गौरतलब है कि पीपल बाबा 1977 से लगातार पेड़ लगाओ कार्यक्रम चला रहे हैं, जो अपने जीवन का एकमात्र लक्ष्य देश में हरियाली लाना बना चुके हैं। वे निरंतर 43 सालों से पेड़ लगाओ अभियान चला रहे हैं।

आपको बता दें कि ये देश के 18 राज्यों के 202 जिलों में अपनी टीम के माध्यम से पेड़ लगा चुके है। कोरोना काल में इन्होंने अपनी मुख्य कार्यस्थली उत्तर प्रदेश को बनाया। कोरोना वर्ष (1 जनवरी 2020 से 31 दिसंबर 2020) में भी हमारी टीम ने पूरे देश में 1 लाख 11 हजार 780 पौधे लगाये।  इसमें से सर्वाधक उत्तर प्रदेश में पौधे लगाये गये।

पीपल बाबा की टीम ने जहां NCR से जुड़े दिल्ली में 8340 पेड़, नोएडा में 33,400, ग्रेटर नोएडा में 28,600, गाजियाबाद में 4,200 पेड़ लगाया। वहीं लखनऊ में 30,280 पेड़, उत्तराखंड में 3820 पेड़, हरियाणा (सोहना-बहादुरगढ़ रोड पर) में 3140 पेड़ लगाए। नये साल के योजनाओं पर बातचीत करते हुए पीपल बाबा ने बताया कि नये वर्ष में हमारी टीम ने संकल्प लिया है। आने वाले समय में हमारी टीम पेड़ लगाओ अभियान को लेकर पूरे देश में जाएगी और संपूर्ण देश में हरियाली लाने के लए कार्य करेगी।

गौरतलब है कि पीपल बाबा अपने 15000 स्वयंसेवियों की मदद से देश के 18 राज्यों के अतंर्गत आनेवाले 202 जिलों में हरियाली क्रांति कैंपेन चला रहें हैं। इसके तहत पीपल बाबा की टीम ने देश क़ो अब तक 2 करोड़ 25 लाख पौधे समर्पित किया है। वहीं उन्होंने HCL की मदद से पीपल बाबा उत्तर प्रदेश में नोएडा के सेक्टर 115 के सोरखा village और लखनऊ के रहीमाबाद में अटल उदय उपवन नामक दो बड़े जगंल का विकास कर रहे है। गौरतलब है कि विगत पर्यावरण पखवाड़े में लखनऊ के मेयर संयुक्ता भाटिया भी रहीमबाद में पीपल बाबा के पौधरोपण कार्य में भाग लें चुकी है।

From around the web