लव जिहाद ने लेनी चाही एक और बेटी की जान, पुलिस कर्मियों ने दौड़ाकर बचाया, हालत नाजुक

 

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश के विधानसभा के सामने ठीक उस समय हड़कंप मच गया, जब एक महिला ने खुद को बीजेपी कार्यालय के सामने जलाने की कोशिश की। जिसे देखकर वहां मौजूद पुलिस कर्मियों ने उसे दौड़ाकर बचाया। हालांकि इस घटना में महिला बुरी तरह घायल हो गई, जिसे लेकर उन्हें सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। खबरों की मानें तो महिला की हालत नाजुक बनी हुई है।

मामला हजरतगंज कोतवाली की है। खबरों की मानें तो पीड़ित महिला अंजना तिवारी की शादी अखिलेश तिवारी से (35) हुई थी, जिसके बाद इन दोनों का तलाक हो गया। इसके बाद इस महिला ने आसिफ नाम के युवक से शादी की। शादी के बाद आसिफ रजा सऊदी चला गया था। महिला के अनुसार आसिफ के परिजन उसे लगातार प्रताड़ित कर रहे थे, जिससे परेशान होकर महिला ने बीजेपी के गेट नंबर 2 पर ज्वलनशील पदार्थ डालकर खुद को आग लगा ली।

महिला का कहना है कि महराजगंज थाने में उसने पुलिस से शिकायत की थी, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। इंसाफ के लिए वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलना चाहती थी, लेकिन मुलाकात न होने से निराश होकर महिला ने आत्मदाह का प्रयास किया। जिसके बाद सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने महिला को सिविल अस्पताल भर्ती कराया है।

आपको बता दें कि सिविल अस्पताल पर डीसीपी, एडीसीपी इंस्पेक्टर हजरतगंज समेत तमाम पुलिस के अधिकारी मौजूद है। इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने 'लव जिहाद' और धर्म परिवर्तन की घटनाओं पर संज्ञान लिया है।

From around the web