हाथरस: बीजेपी नेता का सवाल- ऐसी लड़कियां गन्ने के खेत में ही क्यों पाई जाती हैं

 

रिपोर्ट- रितिका आर्या

अक्सर अपने विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले बीजेपी नेता रंजीत बहादुर श्रीवास्तव ने एक बार फिर से विवादित बयान दे दिया है। बीजेपी नेता रंजीत बहादुर श्रीवास्तव हाथरस के आरोपियों के पक्ष में खड़े होने के साथ ही कहा, “ऐसी लड़कियां धान या गेहूं के खेत में क्यों नहीं पाई जाती हैं ”

बता दें, उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में नगर पालिका अध्यक्ष के पति और खुद दुराचार के मुकदमे में आरोपी बीजेपी नेता रंजीत बहादुर श्रीवास्तव ने हाथरस मामले में आरोपी लोगों का पक्ष लेते हुए उनके निर्दोष होने का दावा किया है। उन्होंने कहा कि आखिर क्यों लड़की घास काटने के लिए गन्ने-बाजरे के खेत में गई। क्या उन्हें कोई और जगह नहीं मिली। श्रीवास्तव ने कहा की पीड़ित का आरोपी लड़के के साथ प्रेम-प्रसंग पहले से ही था। ऐसी लड़कियां गन्ने के खेत में ही क्यों पाई जाती हैं।

आरोपियों को तत्काल रिहा कर दिया जाए

पीड़ित लड़ती के खिलाफ विवादित बयान देने के साथ ही श्रीवास्तव ने आरोपियों को तत्काल जेल से रिहा करने की भी मांग की है। उन्होंने कहा की अगर मेरी बातों की तथ्यात्मक विवेचना की जाएं तो मैं ये दावे के साथ कह सकता हूं सभी लड़के निर्दोष पाए जाएंगे।

बयान के खिलाफ राष्ट्रीय महिला आयोग का नोटिस

बीजेपी नेता रंजीत बहादुर श्रीवास्तव द्वारा हाथरस मामले पर दिए गए इस विवादित बयान पर राष्ट्रीय महिला आयोग नोटिस भेजने की तैयारी में है। आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने ट्वीट करके कहा है की वो रंजीत बहादुर किसी भी पार्टी के नेता कहलाने लायक नहीं हैं। उनका बयान उनकी बीमार मानसिकता को दर्शा रहा है। मैं उन्हें नोटिस भेजने जा रही हूं।

From around the web