डी.एल.एड के विद्यार्थियों की मांग, हमारी भी सुन लो सरकार,यूजीसी के गाइडलाइन पर करो विचार

 

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के कांशीराम इको गार्डन पार्क में जो आवाज आप सुनाई दे  रही है वह आवाज किसी चुनावी रैली की नहीं है। बल्कि ये आवाज डी.एल.एड. संयुक्त प्रशिक्षु मोर्चा उत्तर प्रदेश द्वारा योगी सरकार और शिक्षा मंत्री के खिलाफ लगातार चार दिन से धरने पर बैठे उन छात्रों की है। जिनका बैक लगने के बाद धरने पर बैठे हुए है।

वही धरने पर बैठे प्रदेश अध्यक्ष रजत सिंह ने कहा कि कोरोना महामारी के प्रभाव को देखते हुए उत्तर प्रदेश शासन द्वारा डी.एल.एड तृतीय समेस्टर व प्रथम समेस्टर के प्रशिक्षुओं को प्रोन्नत के संबंध में दो आदेश आया था उसमें कई सारी कमियां पाई गई है।

रजत सिंह ने आगे बताया कि 18 बैच के जिन प्रशिक्षुओं प्रथम अथवा द्वितीय सेमेस्टर के किसी एक या दो विषय में बैक लगा था। प्रमोट किया जाए। रजत ने बताया कि कोरोना काल में यूजीसी का जियो जारी किया था।

जिसमें कहा गया था कि कोरोना काल में सबको प्रमोट किया जाए लेकिन ऐसा नहीं किया गया। हमारी प्रदेश की योगी सरकार और बेसिक शिक्षामंत्री से निवेदन है की एक जियो जारी कर उन्हें प्रमोट किया जाए। रजत ने बताया कि 90000 लोगों का बैक आया है। बैक के वजह से 10 लोगों ने आत्महत्या भी कर लिया।   

From around the web