सपा नेता मनोज पांडे का बड़ा बयान,  कहा भाजपा की सरकार में ब्राह्मणों पर हुआ अत्याचार

 

रिपोर्ट: अनंत दुबे

भदोही : उत्तरप्रदेश के भदोही में बुधवार को एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। आयोजित कार्यक्रम में फूलपुर से सोनभद्र जाते समय सपा के प्रबुद्ध प्रकोष्ठ महासभा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज पांडे तथा बस्ती के पूर्व विधायक व पूर्व मंत्री केके ओझा शामिल हुए थे। जिनका ब्राहमण समाज के लोगों ने जोरदार माल्यार्पण कर स्वागत किया। कार्यक्रम में सर्वप्रथम मनोज पांडे ने भगवान परशुराम के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया इस दौरान भारी संख्या में एकत्रित हुए।

इसके बाद अपने संबोधन में कहा कि भाजपा की सरकार में ब्राह्मणों पर क्या क्या अत्याचार नही हुआ उनकी हत्याएं उनका शोषण किया जा रहा है। इसी दौरान  वे आगे भी बोले कि ब्राह्मण समाज सम्मान चाहता है। ब्राह्मणों ने जिसे चाहा उसे उठा दिया और जिसे चाहा उसे गिरा दिया। ब्राह्मणों को शस्त्र और शास्त्र दोनों ही समय-समय पर उठाना पड़ता है। इस समय ब्राह्मणों पर हो रहे अत्याचार को देखते हुए शास्त्र को नहीं सिर्फ शस्त्र ही उठाना पड़ेगा।

इसके बाद वे योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहने लगे कि अपने कर्तव्य से विमुख अधिकारी अभी भी समय रहते अगर वह सुधर सकते हैं तो सुधर जाएं वरना समाजवादी पार्टी के सत्ता में आते ही बिगड़े अधिकारी जूता साफ करते हुए दिखेंगे। इसके साथ ही उन्होने ब्राह्मणों के सुदामा जैसी नम्रता, चाणक्य जैसा दिमाग तथा भगवान परशुराम बनकर हथियार भी रखी। इस दौरान उन्होंने एटा, औरैया,प्रयागराज, सीतापुर समेत दर्जनभर स्थानों पर हाल ही में हुए ब्राह्मणों की निर्मम हत्या को भाजपा सरकार की साजिश या संयोग बताया। साथ ही भाजपा सरकार से भगवान परशुराम जयंती पर अवकाश पर लगी रोक को हटाने की मांग रखी।

मनोज पांडे ने कहा कि सपा सरकार के कार्यकाल के बारे में बताया कि 23000 संस्कृत के अध्यापकों को रोजी रोटी दी गई थी। समाजवादी पार्टी के विचारधारा को ब्राह्मण समाज के बीच रखा, साथ ही ब्राह्मण समाज को पूरी तत्परता और लगन के साथ सपा के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने की भी बात कही। इस दौरान कई वक्ताओं ने भी अपने वक्तव्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार में ब्राह्मणों पर हो रहे अत्याचार जुल्म-सितम पर बयान दिया।

From around the web