बाबरी विध्वंस मामला: पूर्व पक्षकार इकबाल अंसारी ने फैसले का किया स्वागत

 

लखनऊ: बाबरी विध्वंस मामले पर 28 साल बाद बुद्धवार को सीबीआई की विशेष अदालत से अपना फैसला सुनाते हुए 32 आरोपियों को केस से बरी कर दिया है। आप को बाताते चले कि यह फैसला सीबीआई जज सुरेंद्र कुमार यादव ने दी।1992 के बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सभी 32 आरोपियों पर अभी केस चल रहा था। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि विध्वंस पूर्व नियोजित नहीं था और सबूत मजबूत नहीं हैं। वही सीबीआई का फैसला आने के बाद इकबाल अंसारी लेकर कई नेताओं ने कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बाबरी मस्जिद के पूर्व पक्षकार इकबाल अंसारी ने इस मसले पर कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है। इसके अलावा भाजपा नेता राम माधव ने बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि जीत सच की है। कोर्ट ने साजिश मामले में बरी कर दिया। हमारे देश के कुछ सबसे सम्मानित नेताओं के खिलाफ एक दुर्भावनापूर्ण मामला 3 दशकों के बाद आया है।

इसके अलावा शिवसेना ने भी बाबरी मामले पर अपना पक्ष रखा है। शिवसेना नेता संजय राउत ने भी कोर्ट के फैसले का स्वागत किया और कहा कि इस फैसले का पिछले 28 सालों से इंतजार था। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और पूरी शिवसेना ने फैसले का स्वागत किया।

From around the web