राजस्थान में दो नाबालिग लड़कियों के साथ गैंगरेप, बड़ी लापरवाही आई सामने

 

नई दिल्ली : देश में लगातार बढ़ती बलात्कार की घटना को लेकर सरकार अभी तक ऐसा कोई कदम नहीं उठा सकी है, जिससे वो इस पर अंकुश लगा सकें। आपको बता दें कि यूपी के हाथरस, बलरामपुर के बाद राजस्थान के कोटा से भी गैंगरेप के मामले सामने आये है, जिसमें राजस्थान पुलिस की जमकर लापरवाही सामने आ रही है। आपको बता दें कि ये घटना 18 सितंबर का है, जब दो लड़के दो नाबालिग लड़कियों बहला फुसलाकर ले गये, इस दौरान 18 से 21 सितंबर तक आरोपी युवक दोनों नाबालिग लड़कियों को कोटा, जयपुर और अजमेर तक ले गए। जहां दोनों के साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया गया।

आपको बता दें कि घर से बच्चियों के गायब होने पर परिवार ने महिला थाना बारां में रिपोर्ट दर्ज करवाई। तीन दिन तक उन्हें ढूंढते रहे। इस दौरान वे आरोपी लगातार बच्चियों को लेकर लोकेशन बदलते रहे। इसके बाद मंडाना की तरफ लोकेशन ट्रैस होने पर परिवार पुलिस के साथ मौके पर गए। फिर 21 सितंबर को एक थाने से फोन आया ही बच्चियों और दो युवक को पकड़ लिया है।

परिवार का आरोप है कि पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। लड़के-लड़की दोनों को साथ लाए थे। जिसमें से लड़कों को तो छोड़ दिया। वहीं, लड़कियों को सखी केंद्र भेज दिया गया। दोनों बहनों की उम्र 13 से 15 साल बताई जा रही है।

वहीं पुलिस पुलिस हेडक्वार्टर ने अपने एक बयान जारी करके बारां में 2 नाबालिग बालिकाओं के साथ दुष्कर्म के आरोपों का खंडन किया है। पुलिस का दावा है कि दोनों बालिकाओं ने अपने 164 के बयानों में किया स्पष्ट कि उनके साथ रेप नहीं हुआ। दोनों बालिकाओं की मेडिकल जांच कराई गई, जिसमें रेप की पुष्टि नहीं हुई है। आपको बता दें कि इस घटना के सामने आने के बाद से बीजेपी लगातार कांग्रेस को घेर रही है, और कांग्रेस का विरोध कर रही है।

From around the web