पंजाब : दशहरे में जले पीएम मोदी के पुतले पर मचा घमासान, भड़के बीजेपी अध्यक्ष

 

नई दिल्ली : विजयादशमी के मौके पर पंजाब में रावण के पुतले में पीएम नरेंद्र मोदी का मुखौटा जलाने पर घमासान शुरू हो गया है, इसे लेकर बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने इन सभी घटनाओं के पीछे कांग्रेस नेता राहुल गांधी का हाथ बताया है। BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बताया कि पंजाब में ये ड्रामा राहुल गांधी के डायरेक्शन पर हुआ है, जो बेहद शर्मनाक है लेकिन अनापेक्षित नहीं।

बता दें कि रविवार को पंजाब में कुछ लोगों ने रावण के पुतले में पीएम मोदी का मुखौटा लगाकर पुतले को जलाया था। इस पर बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भड़कते हुए कहा कि पंजाब में पीएम मोदी का पुतला जलाने का शर्मनाक ड्रामा राहुल गांधी के द्वारा निर्देशित है, लेकिन उन्हें ऐसी ही उम्मीद थी।

वहीं इस घटना पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि पूरे पंजाब में पीएम मोदी का पुतला जलाया गया। ये बेहद दुखद है। उन्होंने कहा कि पंजाब में पीएम के प्रति लोगों का गुस्सा इस स्तर तक पहुंच गया है, पीएम मोदी को इन लोगों से बात करनी चाहिए।

वहीं नड्डा ने कहा कि नेहरू-गांधी खानदान ने कभी भी प्रधानमंत्री पद का आदर नहीं किया है, जो 2004-2014 के बीच भी देखने को मिला था जब UPA के शासनकाल में पीएम पद को संस्थागत तरीके से कमजोर किया गया था।

वहीं कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि ये दुखद है कि पंजाब के लोगों का गुस्सा इस कदर तक बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि, "कल पूरे पंजाब में ऐसा हुआ, ये दुखद है कि पंजाब प्रधानमंत्री के प्रति ऐसा गुस्सा जता रहा है, ये बहुत ही खतरनाक उदाहरण है और हमारे देश के लिए बुरा है, प्रधानमंत्री को इन लोगों से बात करनी चाहिए और इन्हें तत्काल राहत देनी चाहिए।

इस पर बीजेपी अध्यक्ष ने कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि एक खानदान का एक ऐसे शख्स के प्रति नफरत जो गरीबी में जन्मा और प्रधानमंत्री बना ऐतिहासिक है, और उतना ही ऐतिहासिक है भारत के लोगों का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति प्यार। जितना ही कांग्रेस झूठ बोलती है, जितना ही इनकी नफरत बढ़ती है, उतना ही ज्यादा लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन करेंगे।

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों पहले ही पंजाब में केंद्रीय कृषि बिल के विरूद्ध विधानसभा में चार बिल पास किये गये थे, जिससे केंद्र सरकार द्वारा संसद के दोनों सदनों से पास हुए कृषि बिल को रोका जा सकें।

From around the web