कृषि बिल के विरोध में धरने पर बैठे सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह 
 

 

नई दिल्ली: कृषि बिल का विरोध दिल्ली से लेकर पंजाब और उत्तर प्रदेश और बिहार में देखने को मिल रहा है। सोमवार को कृषि बिल का विरोध में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शहीद आजम भगत सिंह के जयंती पर उनके जन्मस्थान नवांशहर में खटकर कलां गांव जाकर धरने पर बैठ गए है। 


इस दौरान पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ मंत्री, विधायक और कार्यकर्ता भगत सिंह के गांव खटकर कलां में धरने पर बैठ गए हैं। उनके साथ कांग्रेस महासचिव और पंजाब के इनचार्ज हरीश रावत भी धरने में शामिल हैं।


धरना शुरू करने से पहले अमरिंदर सिंह ने भगत सिंह की प्रतिमा के आगे श्रद्धांजलि अर्पित की। पंजाब का इंचार्ज नियुक्त होने के बाद हरीश रावत पहली बार पंजाब दौरे पर आए हैं। 


इससे पहले वह स्वर्ण मंदिर में माथा टेककर अपने दौरे की शुरुआत करने वाले थे लेकिन ऐन मौके पर कांग्रेस ने योजना बदल दी। पंजाब में कृषि कानून को लेकर उग्र विरोध प्रदर्शन को देखते हुए हरीश रावत ने धरने में शामिल होकर दौरा शुरू किया।


इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि "पंजाब के किसानों और अर्थव्यवस्था को बर्बाद करने के लिए डिजाइन" किए गए इन कानूनों को रद्द कराने लिए पंजाब सरकार कानूनी मदद लेने के अलावा भी अन्य विकल्प तलाश रही है।

From around the web