BJP के कोरोना का मुफ्त टीका वादे पर उद्धव का वार, पूछा- क्या बाकी राज्यों के लोग क्या बांग्लादेश से आए?

 

रिपोर्ट- रितिका आर्या

नई दिल्ली: बिहार में BJP के मुफ्त टीके का वादा खुब भुनाया जा रहा है। बीजेपी इसे अपना हैट्रिक मान कर वोट का बैंक अपनी ओर खिसकाने की सोच रही थी लेकिन इस वादे को लेकर अब वो (BJP) विपक्षियों के निशाने पर है। पहले ही बीजेपी के इस वादें को लेकर कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी दल उसपर हमलावर है तो वहीं अब महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इसे लेकर बीजेपी पर बड़ा हमला बोला है। ठाकरे ने बिहार (Bihar) में कोरोना वायरस (Coronavirus) का टीका (Vaccine) मुफ्त उपलब्ध कराने के बीजेपी (BJP) के चुनावी वादे पर तंज कसते हुए कहा कि क्या बिहार के अलावा दूसरे राज्यों के लोग बांग्लादेश या कजाकिस्तान से आए हैं?।

आपको बता दें, ठाकरे ने ये बात दादर के सावरकर हॉल में आयोजित शिवसेना (Shiv sena) की वार्षिक दशहरा रैली को संबोधित करते हुए कही। हालांकि हर बार ये आयोजन शिवाजी पार्क में होता था लेकिन इस बार कोरोना वायरस की रोकथाम के नियमों के चलते इसे सावरकर हॉल में आयोजित किया गया।

उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने कहा, ‘‘आप बिहार में लोगों के लिए कोविड-19 के मुफ्त टीके का वादा करते हैं, तो क्या अन्य राज्यों के लोग बांग्लादेश या कजाकिस्तान से आए हैं? ऐसी बातें कर रहे लोगों को खुद पर शर्म आनी चाहिए. आप केंद्र में बैठे हैं.''

कंगना पर भी साधा निशाना

अभिनेत्री कंगना रनौत पर परोक्ष निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग रोजी-रोटी के लिए मुंबई आते हैं और शहर को पीओके (पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर) बोलकर उसे गाली देते हैं।ठाकरे ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में अपने बेटे आदित्य ठाकरे पर लग रहे आरोपों पर चुप्पी तोड़ते हुए कहा, ‘‘बिहार के बेटे को न्याय के लिए शोर मचा रहे लोग महाराष्ट्र के बेटे के चरित्र हनन में लगे हैं.''

उन्होंने कहा कि मौजूदा जीएसटी प्रणाली पर पुनर्विचार करने का वक्त आ गया है और अगर जरूरी हुआ तो इसे बदला जाना चाहिए क्योंकि राज्यों को इससे फायदा नहीं मिल रहा है। ठाकरे ने कहा, ‘‘हमें (महाराष्ट्र को) अभी तक जीएसटी का 38,000 करोड़ रुपये का बकाया नहीं मिला है.'' उन्होंने कहा कि बीजेपी को लोगों को जाति और धर्म के आधार पर नहीं बांटना चाहिए।

From around the web