दुकान का नाम कराची स्वीट्स रखने पर शिवसेना नेता की धमकी, संजय राउत ने किया समर्थन

 

नई दिल्ली: मुंबई में शिवसेना नेता की एक बार फिर दबंगई सामने आई है, शिवसेना नेता नितिन नंदगांवकर ने एक दूकान के मालिक को धमका दिया। दूकान के मालिक की गलती सिर्फ इतनी थी कि उसने अपने दुकान का नाम कराची स्वीट्स रखा था। जिसके बाद दूकानदार ने दुकान के नाम को पेपर से ढक दिया है।

इस पूर्रे प्रकरण के सामने आने के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने गुरुवार को कराची स्वीट्स का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि दुकान के मालिक का पाकिस्तान से कुछ लेना-देना नहीं है, इसलिए दुकान का नाम बदलने की मांग शिवसेना का आधिकारिक रुख नहीं है।

आपको बदा दें कि शिवसेना नेता नंदगांवकर का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है, जिसमें वह कराची स्वीट्स शॉप के मालिक को दुकान के नाम से 'कराची' शब्द हटाने को कह रहे हैं।

बांद्रा वेस्ट स्थित कराची स्वीट्स के मालिक को धमकी देते हुए नंदगांवकर ने कहा था कि उन्हें दुकान का नाम बदलना ही होगा। नंदगांवकर ने कहा था, 'कराची नाम पाकिस्तान से जुड़ा हुआ है और यह मुंबई में इस्तेमाल नहीं होगा।

इस मामले में दुकान के मालिक का कहना है कि उनके परिवार में यह नाम है क्योंकि उनके पूर्वज कराची से थे। जिसके बाद कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने शिवसेना कार्यकर्ता को 'बेवकूफ' बताते हुए कहा कि भारत के चाइनीज होटलों का चीन से कोई लेना-देना नहीं है, वैसे ही बांद्रा के कराची स्वीट्स का पाकिस्तान से कोई नाता नहीं है।

मामले को बढ़ता देख अब शिवसेना ने भी पार्टी कार्यकर्ता की इस हरकत से किनारा करना शुरू कर दिया है। बुधवार को संजय राउत ने कहा, 'कराची बेकरी और कराची स्वीट्स मुंबई में 60 सालों से हैं। उनका पाकिस्तान से कोई लेना-देना नहीं है। उनके नाम बदलने के लिए कहने का कोई मतलब नहीं है।' उन्होंने कहा कि दुकान का नाम बदलने की मांग रखना शिवसेना का आधिकारिक रुख नहीं है।

From around the web