मध्य प्रदेश : अपने ही पूर्व सांसद को कमलनाथ ने बताया आइटम, कहा, 'यह क्या आइटम है'

 

नई दिल्ली : बिहार विधानसभा चुनाव के साथ ही मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में भी चुनाव होने है, जिसे लेकर सभी की नजर मध्य प्रदेश पर टिकी हुई है। आपको बता दें की अपने उसी सीट और कुर्सी को संभालने के लिए मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ लगातार रैलियां कर रहे है। इसी बीच कमलनाथ का एक ऐसा बयान सामने आया है, जिसे लेकर उनकी जमकर किरकिरी हो रही है, वहीं बीजेपी नेताओं ने भी उनसे माफी की मांग की है।

आपको बता दें कि एक चुनावी रैली को संबोधन करते हुए कांग्रेस नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस के पूर्व नेता और वर्तमान बीजेपी महिला प्रत्याशी को आइटम बताया है। उन्होंने कहा कि, 'सुरेंद्र राजेश हमारे उम्मीदवार हैं, सरल स्वभाव के सीधे साधे हैं। यह उसके जैसे नहीं है, क्या है उसका नाम? मैं क्या उसका नाम लूं आप तो उसको मुझसे ज्यादा अच्छे से जानते हैं, आपको तो मुझे पहले ही सावधान कर देना चाहिए था, 'यह क्या आइटम है'।

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश के इसी डबरा सीट से इमरती देवी बीजेपी की ओर से उम्मीदवार हैं, जिन्होंने कांग्रेस छोड़ भारतीय जनता पार्टी का दामन थामा हैं। इमरती देवी को ज्योतिरादित्य सिंधिया का कट्टर समर्थक माना जाता है।

कमलनाथ के इस बयान पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी तीखी टिप्पणी करते हुए ट्वीट कर कहा कि कमलनाथ जी! इमरती देवी उस गरीब किसान की बेटी का नाम है जिसने गांव में मजदूरी करने से शुरुआत की और आज जनसेवक के रूप में राष्ट्रनिर्माण में सहयोग दे रही हैं। कांग्रेस ने मुझे ‘भूखा-नंगा’ कहा और एक महिला के लिए आपने ‘आइटम’ जैसे शब्द का उपयोग कर अपनी सामंतवादी सोच फिर उजागर कर दी।

वहीं अन्य ट्वीट में शिवराज ने कहा कि खुद को ‘मर्यादा पुरुषोत्तम’ बताने वाले ऐसी ‘अमर्यादित भाषा’ का प्रयोग कर रहे हैं? नवरात्रि के पावन पर्व पर देश नारी की उपासना कर रहा है, ऐसे में आपके बयान से आपकी ओछी मानसिकता झलकती है। बेहतर होगा कि आप अपने शब्द वापिस लें और इमरती देवी सहित प्रदेश की हर बेटी से माफी मांगें।

पूर्व कांग्रेस और वर्तमान में बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि एक गरीब और मजदूर परिवार से आगे आईं दलित नेता इमरती देवी जी को आज डबरा में आइटम और जलेबी कहना अत्यंत निंदनीय और आपत्तिजनक है। ये कमलनाथ जी की मानसिकता को भी दर्शाता है। महिलाओं के साथ ही समूचे दलित समाज का अपमान करने वाले ऐसे मगरूर नेता को सबक सिखाने का समय आ गया है।

आपको बता दें कि इससे पहले कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने भी बीजेपी प्रत्याशी को लेकर विवादित बयान दिया था, जिसे लेकर भी बीजेपी नेता अपना विरोध जता चुंके है।

From around the web