Chitrakoot में गैंगरेप पीड़िता ने फांसी लगाकर खत्म की जिंदगी, तीन आरोपी गिरफ्तार

 

रिपोर्ट- रितिका आर्या

देश एक बार फिर गैंगरेप जैसे जघन्य अपराध की पीड़िता ने दुनिया को अलविदा कह दिया। ताजा मामला मध्यप्रदेश के चित्रकूट का है जहां, गैंगरेप की शिकार 15 साल की दलित लड़की ने घर में ही फांसी लगाकर अपनी जिंदगी का अंत कर लिया। बताया जा रहा है पीड़िता ने फांसी जैसा कदम एफआईआर दर्ज न होने के चलते उठाया।

वहीं, परिजनों द्वारा पुलिस प्रशासन पर लगाए गए आरोपों के बाद मामले पर बवाल बढ़ रहा है जिसके बाद जिला प्रशासन ने पीड़िता के गांव को छावनी में तबदील कर दिया है।

आपको बता दें, इस घटना पर एसपी अंकित मित्तल का कहना है कि मणिकपुर इलाके में अपने घर के अंदर ही 15 साल की लड़की ने मंगलवार (13 अक्टूबर) को फांसी लगा ली। एसपी ने कहा कि पीड़िता की मौत के बाद उसके परिजनों द्वारा आरोप लगाया गया है कि पीड़िता के साथ 8 अक्टूबर को तीन लोगों ने जंगल में गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया।

तीनों आरोपी हुए गिरफ्तार

एसपी अंकित मित्तल ने जानकारी देते हुए कहा कि पीड़ित परिवार की शिकायत के आधार पर एफआईआर दर्ज की गई है। वहीं तीनों आरोपियों किशन उपाध्याय, आशीष और सतीश को भी कार्यवाही करते हुए गिरफ्तार कर लिया गया है। एसपी अंकित मित्तल का कहना है कि गिरफ्तार हुआ आरोपी किशन उपाध्याय गांव के प्रधान का बेटा है। पुलिस ने बताया कि ये गिरफ्तारी पॉक्सो एक्ट और एससी-एसटी एक्ट के तहत की गई है।

सुनवाई नहीं होने पर लगाई फांसी

परिवार ने आरोप लगाया है कि लड़की ने अपनी जान इसलिए दी क्योंकि उसकी शिकायत पर कोई सुनवाई नहीं की जा रही थी. परिवार ने ये भी आरोप लगाया है कि रेप के बाद आरोपी लड़की के हाथ-पैर बांधकर फरार हो गए थे और पुलिस ही उसे घर लेकर आई लेकिन एफआईआर दर्ज नहीं की.

पुलिस ने कहा- रेप की पुष्टि नहीं

पुलिस का कहना है कि पीड़िता के परिजनों की तरफ से कोई शिकायत नहीं दी गई थी। एसपी अंकित मित्तल ने ये भी कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में रेप की पुष्टि नहीं हुई है, अब सैंपल फॉरेंसिक जांच के लिए भेजे जाएंगे।

इस घटना के बाद बड़ी तादाद में लोग पीड़ित परिवार के पास पहुंच रहे हैं। पार्टियों के नेताओं का गांव जाना भी शुरू हो गया है। नेताओं के अलावा दलित संगठनों के लोग भी गांव पहुंच रहे हैं। जिससे वहां काफी हलचल पैदा हो गई है. एहतियात के तौर पर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। चप्पे-चप्पे पर पुलिसबल तैनात है।

इस घटना पर राजनेताओं के बयान भी आने लगे हैं। आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद और यूपी प्रभारी संजय सिंह ने सीएम योगी आदित्यनाथ को घेरते हुए कहा कि आपका राज अन्यायी राज है।

संजय सिंह ने ट्वीट में लिखा, ''हाथरस के बाद अब चित्रकूट: अत्याचार की इंतेहा हो गई। एक गरीब दलित की बेटी के बेबसी का अंदाज़ा लगाइये उसके साथ हुए गैंगरेप की FIR दर्ज नहीं हुई, उसने आत्महत्त्या कर ली। आदित्यनाथ जी आपका राज 'अन्यायी राज' है जहां गरीब गरीब दलित के लिए न्याय नहीं.''

बता दें कि ये घटना ऐसे वक्त सामने आई है जब हाथरस में 19 साल की दलित लड़की की गैंगरेप के बाद मौत केस की जांच चल रही है। हाथरस में भी पुलिस की कार्रवाई सवालों के घेरे में है, यहां तक इलाहाबाद हाई कोर्ट ने अधिकारियों के खिलाफ सख्त टिप्पणी की हैं। ऐसे में अब चित्रकूट के दलित परिवार ने भी शिकायत दर्ज न करने के चलते बेटी द्वारा आत्महत्या का आरोप लगाकर पुलिस पर फिर सवाल खड़े कर दिए हैं।

From around the web