नदी के रास्ते भारत में हथियार भेजने की कोशिश कर रहे थे आतंकी, भारतीय सैनिकों ने फेरा मंसूबों पर पानी

 

नई दिल्ली : कोरोना संकट के महामारी अपने देश की आर्थिक व्यवस्था से पिछड़ने के बाद भी पाकिस्तान लगातार ऐसी हरकत कर रहा है, जिससे वो भारत को क्षति पहुंचा सकें, लेकिन शायद वो भूल गया हैं कि भारत की आंखें, आंखें निगेहबान आंखें है। जिससे दुश्मन या पड़ोसी मुल्क के किसी  भी मंसूबे को फेल किया जा सकता है। गौरतलब है कि पाकिस्तान आज यानी 10 अक्टूबर शनिवार को किशनगंगा के रास्ते कश्मीर के उत्तरी हिस्सा में हथियार भेजने की कोशिश कर रहा था, जिससे वो अपने गलत मंसूबे को अंजाम दे सकें। लेकिन भारतीय सैनिकों ने उनके मंसूबों के सफल होने से पहले ही फेल कर दिया।

आपको बता दें कि भारतीय जवानों ने पाकिस्तान के उस हथियारों के जखीरों को बरामद कर लिया है, जो पीओके में छिपे आतंकी या उनके सहयोगियों को भेजने की कोशिश की जा रही थी। बता दें कि सेना ने जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ मिलकर संयुक्त ऑपरेशन चलाकर आतंकवादियों के हथियारों को बरामद कर लिया है।

जीओसी चिनार कॉर्प्स के लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू ने खबर की पुष्टि करते हुए  कहा कि सर्विलांस डिवाइसेस का इस्तेमाल करते हुए हमारे मुस्तैद जवानों ने पाकिस्तान द्वारा तस्करी किए जा रहे हथियारों का जखीरा पकड़ने में कामयाबी हासिल की है। उन्होंने कहा कि यह घटना दर्शाती है कि पाकिस्तान के इरादे अब भी वही हैं। हम आने वाले दिनों में भी पाकिस्तान के ऐसे ही बुरे इरादों से जूझते रहेंगे।

लेफ्टिनेंट जनरल ने बताया, हमारी खुफिया एजेंसी की जानकारियों के मुताबिक, पाकिस्तान की ओर तकरीबन 250-300 आतंकी लॉन्च पैड हैं। आतंकवादियों के नियमित घुसपैठ की कोशिशों के बावजूद हम उन्हें अपने रेगुलर कोशिशों से दूर रखने में सक्षम हैं।

खबरों की मानें तो दो-तीन आतंकवादी नदी के दूर किनारे से रस्सी से बंधे ट्यूब में कुछ सामान ट्रांसपोर्ट करने की कोशिश कर रहे थे। इसी दौरान सेना के जवान वहां पहुंचे और हथियारों को जब्त कर लिया। आतंकवादियों के पास से 4 एके-74 राइफल, 8 मैगजीन और 230 एके राइफल बरामद किए हैं।

From around the web