अब दिन रात जगमगाएगा लाहौल, लोगों के लिए बना वरदान...

 

रिपोर्ट : प्राची गुलियानी

नई दिल्ली : लाइटों की समस्या से जूझने  वाला लाहौल अब लाइटों की समस्या से नहीं जूझेगा। क्योंकि अटल टनल ने लाहौल-स्पीति के जिले में चारचांद लगा दिए है। अगर सामरिक दृष्टि से बात करें तो ये टनल लाहौल-स्पीति जिले के लोगों के लिए वरदान से कम नहीं है। बता दें कि यहां हर मौसम में यातायात जारी रहेगा। इसे इस तरीके के डिजाइन किया गया है कि बर्फबारी के मौसम में भी यहां यातायात में कोई परेशानी नहीं आंएगी। इसके अलावा इसमे 24 घंटे बिजली का प्रबंध किया गया है जिससे ये 24 घंटें जगमगाता रहेगा। वहीं इसकी बिजली की बात करें तो अटल टनल से होकर बिजली बोर्ड लाहौल के लिए 33 केवी की उच्चताप वाली लाइन बिछाने का काम जारी है जिसका टेंडर सैवरोनिक कंपनी को दिया गया है।

इस बिजली लाइन से लाहौल घाटी सर्दीयों के मौसम में भी जगमगाएगी। आमतौर पर सर्दी में बर्फबारी के कारण बिजली जाने की समस्या सामने आती है, लेकिन अटल टनल में इस समस्या से बचने के लिए आधुनिक तकनीक का प्रयोग किया जा रहा है। जिससे टनल में 24 घंटे बिजली रहे। 

अगर कभी टनल में बिजली की समस्या आ भी जाए तो उसी समय एक सैंकंड के अंदर बैटरी बैकअप अपने आप ऑन हो जाएगा। साथ ही आखिर में डीजल जनरेटर अपना काम करना शुरू कर देगा जिसे टनल में अंधेरा नहीं रहेगा।

टनल की खास लाइटें

बता दें कि इस टनल में खास एलईडी लाइटों का प्रयोग किया जा रहा है। जिससे टनल में प्रवेश करने पर ऐसा महसूस होगा जैसे अंदर दिन ही है। जैसे-जैसे आप टनल के अंदर जाते जाएंगे रोशनी बढ़ती जाएगी। टनल से गुजरने वाले चालकों को किसी तरह की समस्या ना होगी। जिसे लेकर टनल में लाइट लगाने के लिए विदेशों से भी आधुनिक लाइटें मंगवाई जा रही है। जिससे टनल को बेहतरीन से बेहतरीन बनाया जा सकें। वहीं जानकारी के मुताबिक आने वाले सितंबर महीने में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस टनल का उद्घाटन कर इसे आम जनता के लिए हरी झंडी दिखाएंगे।

उन्होंने कहा कि विक्रमशिला पुल के समानांतर नए पुल और भोजपुर बक्सर गंगा पर पल का निर्माण भी दो महीने में शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि गांधी सेतु के पूर्वी लेन के सुपर स्ट्रक्चर का काम भी 18 महीने में पूरा कर लिया जाएगा। वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्रीय मंत्री से आग्रह किया कि मोकामा मुंगेर एनएच 80, मुजफ्फरपुर बरौनी एनएच 28 मुजफ्फरपुर सोनवर्षा एनएच 77 को फोरलेन बनाया जाए। इस पुल की लंबाई 5575 मीटर है और इस पुल की लागत 1742 करोड़ रुपये है। उत्तर बिहार को दक्षिण बिहार से जोड़ता यह पुल बिहार की जीवन रेखा है, इसके निर्माण से बिहार को तेज आर्थिक सामाजिक विकास को बल...

From around the web