गुजरात के इस कारीगर ने पेश की ईमानदारी की मिसालमिला हीरों से भरा पैकेट तो किया ये काम

 

रिपोर्ट : स्वाती सिंह

नई दिल्ली : भारत विविधताओं का देश हैं और ये विविधता इस देश को अनोखा बनाता है। यहां आपको चंद पैसों के लिए मर्डर करने वाले भी मिलेंगे तो वहीं यहां आपको ईमानदारी की मिसाल देने वाले ऐसे इंसान भी मिल जाएंगे, जो दुनिया में कहीं और नहीं मिलेगा। अब एक ऐसी खबर गुजरात से आई है जिसे सुनकर आपको भी भारतवासी होने पर गर्व हो जाएगा। दरअसल गुजरात के एक शख्स ने हीरों से भरा बैग उसके मालिक को लौटाकर इमानदारी की मिसाल पेश की है। इस जगह पर आप अपने आपको रख कर देखिए क्या आपने भी यही किया होता। खैर इस शख्स ने अपने मालिक के प्रति अपनी ईमानदारी का प्रमाण देते हुए इस लाखों के हीरों को उन्हें वापस लौटा दिया है।

गुजरात के सूरत में हीरा कारीगर राजेश राठौड़ को सड़क के किनारे 9 लाख तक की कीमत का हीरों से भरा एक पैकेट मिला था। जिसे उसने उसके मालिक को लौटाकर इमानदारी की मिसाल पेश की है। दरअसल हाल ही में 25 सितंबर को राजेश राठौड़ इतने दिनों तक घर पर रहने के बाद अब काम के सिलसिले में अपने घर से निकले थे। वह काम के सिलसिले में वराछा में हीरा बाजार तक पैदल निकले थे। राह पर चलते हुए उन्हें सुमुल डेयरी पुल के पास उन्हें हीरों से भरा पैकेट मिला। आर्थिक तंगी से जूझ रहे राठौर को पहले ये पैकेट उनके और उनके परिवार की किस्मत बदले का साधन लगा। जी हां उनके दिमाग में इसे बेचकर अपने परिवार की गरीबी को दूर करने और पत्नी बच्चों के लिए ऐसोआराम वाली जिंदगी देने का विचार आया लेकिन उनके दिल में बस रही ईमानदारी की भावना को ये सोच दबा नहीं सकी और अंत में उन्होंने इस हीरों के पैकेट को उसके मालिक को लौटाने की ठान ली।

दृढ़ निश्चय करके उन्होंने  हीरे से भरे पैकेट के असली मालिक का पता लगाकर उसे उन्हें सौंप दिया। जी हां राजेश ने पहले इसक असली मालिक का पता लगाया और फिर इसे उन्हें वापस देने के लिए चल पड़ा। राजेश ने बाद में बताया कि 28 सितंबर को उन्हें एक व्यक्ति का फोन आया जिसने खुद को पैकेट के मालिक के रूप में पेश किया। राजेश ने पहले पूरी तरह से जांच की और यही मालिक है इस बात की पुष्टि हो जाने के बाद, वह एक हीरा दलाल के मालिक हरेश विरदिया से मिला, और उसे पार्सल सौंप दिया। ऐसी मिसाल बहुत कम देखते को मिलती है और राजेश राठौड़ ने इस मिसाल को पूरी दुनिया के सामने पेश किया। राजेश ने ये संदेश दिया कि चाहे जिंदगी में जितनी भी कठिनाई हो कभी अपनी ईमानदारी को खत्म नहीं करना चाहिए।

From around the web