3 दिन की नवजात ठंड में 12 घंटों तड़पती रही , ऐसे बचा जीवन

 

दिल्ली : आज के समय में सभी लोग कहते है की इस दुनिया से मानवता और दया लोगों के अंदर से खत्म हो गई है। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। इसका जीता जागता उदाहरण है दिल्ली की एक घटना जिसमें एक नवजात शिशु को नाले के सामने से उठाकर अनु नाम की एक युवती ने डॉक्टरों से दिखाया और उसे नया जीवनदान भी दिया। इस घटना की आपबीती को बताते हुए 23 साल की इंश्योरेंस एजेंट अनु ने बताया कि अगर उसने तुरंत कार्यवाही नहीं की होती तो 3 दिन की मासूम को दुनिया से रुखसत लेना पड़ सकता था।


बता दें कि पूर्वी दिल्ली के एक नाले के पास से गुजर रही 23 साल की अनु काम के लिए अपने ऑफिस जा रही थी तभी अचानक उसकी नजर एक नाले के पास कपड़े पर पड़ी जिस कपड़े में एक नवजात शिशु लपेटा हुआ था। ठंड के कारण जम चुकी उस नवजात को अनु भागकर पास के अस्पताल ले गई जहां डॉक्टरों की मदद से उस नवजात को खतरे से बाहर लाया गया। फिलहाल चाइल्ड वेलफेयर कमिटी जल्दी नवजात बच्ची को कस्टडी में लेगी। इस बीच पुलिस ने नवजात की मां की पहचान कर उसके खिलाफ केस भी दर्ज कर लिया है। 


अनु ने अपने दिए गए एक इंटरव्यू में बताया कि पिछले सोमवार को सुबह करीब 10:00 बजे के करीब अनु स्कूटी से अपने ऑफिस जा रही थी। तभी सफाई कर्मचारी जो कूड़ा इकट्ठा कर रहे थे उन्होंने अनु को नाले में पड़े उस नवजात के बारे में बताएं उसके बाद वह नाले के करीब गई जहां उसने देखा कि एक नवजात नाले के पास पड़ा है ।अनु ने बताया कि उसके बाद तुरंत उसे निकाला और अपनी बहन को बुलाकर उसे नजदीक के एक अस्पताल ले गई जहां डॉक्टरों के पास इलाज की सुविधा नहीं थी।

अनु ने आगे बताया कि यह करिश्मे से कम नहीं था कि नवजात अभी भी जिंदा था लेकिन उसको बचाने के लिए तुरंत उपचार की जरूरत थी। उसके बाद उसने समय न गवाते हुए तुरंत उस नवजात को दूसरे अस्पताल में एडमिट करवाया। जहां डॉक्टर की मदद से उस नवजात की जान बचाई जा सकी। अनु के साथ ही परिवार के सारे लोग भी बच्चे की देखभाल में जुट गए। बच्चे की देखभाल करते करते बच्ची के साथ लगाव भी हो गया फिलहाल अनु की बहन इस बच्ची को गोद लेने की इच्छा जाहिर कर रही है।

From around the web