नहीं मिले मुख्यमंत्री तो विद्यार्थियों ने पुतले को सौंपा ज्ञापन, एक हफ्ते से लगातार...

 

नई दिल्ली : दिल्ली में एक बार फिर कोरोना के बढ़ते केस को लेकर आम जन-जीवन हलकान हो गया है। वहीं प्रदूषण भी राज्य के लिए बड़ी समस्या बनी हुई है। आपको बता दें कि इन्हीं सारी समस्याओं को लेकर जीबी पंत इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों ने मुख्यमंत्री के विरूद्ध प्रदर्शन किया, और मिलने की मांग की। लेकिन जब वो एक सप्ताह तक छात्रों के सुध लेने नहीं पहुंचे तो छात्रों ने सीएम केजरीवाल के पुतले को ही ज्ञापन सौंप दिया।

गौरतलब है कि सस्ती शिक्षा उपलब्ध कराने की मांग और जीबी पंत इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिला बंद करने के खिलाफ दिल्ली के छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं। यह प्रदर्शन मुख्यमंत्री आवास के समीप विकास भवन के बाहर सोमवार से चल रहा हैं। आपको बता दें कि सिविल लाइंस स्थित विकास भवन के सामने चल रहे छात्रों के धरने तथा क्रमिक उपवास को रविवार को सातवां दिन हो चुका है।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद(ABVP) के मुताबिक प्रदूषण तथा कोरोनावायरस के भय से रात दिन जूझ रहे छात्रों की सुध दिल्ली सरकार ने अभी तक नहीं ली है। रविवार को भी छात्र सरकार के किसी प्रतिनिधि के आकर बात करने के इंतजार में थे, परंतु सरकार की ओर से किसी भी प्रकार का कोई संपर्क नहीं किया गया।

ABVP के मुताबिक, दिल्ली सरकार की उदासीनता तथा तानाशाही का विरोध करते हुए छात्रों ने रविवार को मुख्यमंत्री का पुतला बनाकर उस पुतले को ही अपना ज्ञापन सौंप दिया। छात्रों ने पुतले के सामने हाथ जोड़ विनती की वह छात्रों की मांगों को मानें। पुतले को ज्ञापन देते समय जीबी पंत इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों के साथ दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ के पदाधिकारी तथा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद कार्यकर्ता मौजूद रहे।

ABVP दिल्ली के प्रदेश मंत्री सिद्धार्थ यादव ने कहा, "छात्र , दिल्ली सरकार की नाक के नीचे बैठकर प्रदूषण तथा कोरोनावायरस की भयावहता को झेलते हुए अपनी मांगों के लिए पिछले एक सप्ताह से डटे हुए हैं। दिल्ली की सरकार झूठ फैलाने तथा कर्मचारियों के वेतन को लेकर प्रतिद्वंदिता की निम्न स्तरीय राजनीति में पड़ी हुई है। बार-बार प्रदूषण पर चेतावनी जारी कर रही दिल्ली सरकार को यहां खुले में शाम की सर्द हवाओं तथा सड़क के किनारे भारी प्रदूषण झेल रहे छात्रों की कोई चिंता नहीं है। ऊपर से वह दिल्ली की जनता को हवाई किले बना कर गुमराह करने का काम कर रही है। हमारी मांगों को यदि नहीं सुना गया तो हम एक-दो दिन में प्रदर्शन और उग्र करने के लिए बाध्य होंगे।"

From around the web