दिल्ली सरकार का महिलाओं की सुरक्षा के मद्देनजर बड़ा कदम

 

नई दिल्ली: सरकारों के लिए महिला सुरक्षा एक बड़ी समस्या बनकर सामने आई है। जिसको गंभीरता से लेते हुए दिल्ली सरकार ने सुरक्षा के लिए 20 स्पेशल मोबाइल टीमों का गठन किय़ा है। आपको बता दें कि डीटीसी दिल्ली में, प्रतिदिन 3762 बसों का परिचालन करती है। जिसके माध्यम से कई महिला यात्रियों सहित लाखों यात्री आवागमन करते हैं। सुरक्षा के लिए अब डीटीसी विशेष प्रवर्तन दल तैनात कर रहा है, जो अलग अलग मार्गों में बस चेकिंग का संचालन करेगा।

बुधवार को महिला सुरक्षा एवं प्रवर्तन सम्बन्धी गतिविधि हेतु 20 मारुति ईको वैन के संचालन का उद्घाटन किया गया। इससे पहले बसों में महिला सुरक्षा हेतु मार्शल की तैनाती की जा चुकी है। इसमें भी काफी संख्या में महिला मार्शल शामिल हैं। ये वैन आईजीएल द्वारा कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी के तहत डीटीसी को प्रदान की गई हैं।

सभी डीटीसी बसों में पहले से ही सीसीटीवी, जीपीएस और पैनिक बटन लगाए जा रहे हैं। आपातकाल की स्थिति में पैनिक बटन दबाये जाने पर कमांड एंड कंट्रोल सेंटर को एक सिग्नल चला जाएगा, जो स्थिति की नजाकत के आधार पर ट्रैफिक पुलिस, एम्बुलेंस, डिपो नियंत्रण कक्ष और फायर सर्विसेज आदि को सम्बंधित अलर्ट भेज देगा।

परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने सरोजिनी नगर डिपो में इन 20 प्रवर्तन वाहनों के उद्घाटन पर कहा, "मुझे खुशी है कि दिल्ली सरकार, प्रवर्तन उपायों और महिला सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। बस मार्शलों की तैनाती और सभी बसों में सीसीटीवी और पैनिक बटन स्थापित किया जा रहा। प्रवर्तन परिवहन का एक प्रमुख पहलू है। हमारे कमांड सेंटर पूरी तरह कार्यात्मक होते जा रहे हैं। विशेष रूप से महिला सुरक्षा के लिए नामित ये वैन त्वरित कार्रवाई सुनिश्चित करने में एक त्वरित प्रतिक्रिया टीम के रूप में कार्य करेंगे।"

From around the web