बिहार चुनाव परिणाम से पहले ही नीतीश सरकार के कैबिनेट से हुई 2 मंत्रियों की छुट्टी, जानिए क्या है मामला

 

नई दिल्ली : बिहार विधानसभा चुनाव के परिणाम आने में अभी 4 दिन शेष है, जिससे पहले 7 नवंबर को बिहार में तीसरे चरण का चुनाव होना है। उससे पहले ही नीतीश सरकार को बड़ा झटका लगा है, जिसकी भरपाई चुनाव परिणाम आने के बाद ही हो पायेगा। गौरतलब है कि जेडीयू के कार्यकारी अध्यक्ष अशोक चौधरी और नीरज कुमार, ये दोनों मंत्री विधान परिषद के सदस्य थे, जिनका कार्यकाल 6 मई को ही पूरा हो गया था।

आपको बता दें कि छह महीने गुजर जाने के बाद भी दोनों नेता किसी भी सदन के सदस्य नहीं चुने जा सके हैं, जिस कारण अब उन्हें मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा। बता दें कि 2014 में भवन निर्माण मंत्री डॉ. अशोक चौधरी और सूचना व जनसंपर्क मंत्री नीरज कुमार विधान परिषद सदस्य चुने गए थे। आपको बता दें कि नीरज कुमार स्नातक कोटे से जबकि अशोक चौधरी विधायक कोटे से सदस्य चुने गए थे।

आपको बता दें कि एक बार फिर से नीरज कुमार पटना क्षेत्र से स्नातक सीट से एनडीए प्रत्याशी के तौर पर चुनावी मैदान में उतरे हैं, जिसका परिणाम 12 नंवबर को आएगा। वहीं, अशोक चौधरी जिनके MLC मनोनीत होने की संभावना थी, वो आचार संहिता लागू हो जाने के कारण नहीं हो सकी। यहीं कारण है कि अब इन दोनों नेताओं का कार्यकाल खत्म हुए 6 महीने पूरे हो गए हैं, जिस कारण उन्हें नीतीश कैबिनेट से हटना पड़ा है।

अगर हम संविधान की बात करें तो, बिना किसी सदन के सदस्य रहते हुए मंत्री पद रखने के लिए संविधान की धारा 164 (4) के अनुसार 6 माह में राज्य के किसी सदन विधानसभा या फिर विधान परिषद का सदस्य होना अनिवार्य है।

From around the web