बिहार : पिता को मुखाग्नि देने के दौरान बेसुध हुए चिराग, समर्थक भी नहीं रोक पाएं आंसू

 

नई दिल्ली : गुरुवार शाम को लंबी बीमारी के बाद राम विलास पासवान का निधन हो गया था, जिसके बाद आज उन्हें अंतिम विदाई दी गई। आपको बता दें कि केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान को अंतिम विदाई राजकीय सम्मान के साथ दीघा घाट पर दिया गया। इस दौरान उनके बेटे चिराग पासवान बेसुध हो कर नीचे गिर पड़े। जिसे देख वहां मौजूद लोगों ने चिराग को संभाला। इसके बाद उन्होंने अपने पिता को अंतिम विदाई दी।

आपको बता दें कि इस दौरान चिराग पासवान के परिवार के अलावा मौके पर पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, सीएम नीतीश कुमार, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, गिरिराज सिंह, नित्यानंद राय और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी भी मौजूद थे, जिन्होंने केंद्रीय मंत्री को भावभीनी श्रद्धांजली दी और पुष्प माला अर्पित की।

आपको बता दें कि गुरूवार शाम को लंबी बीमारी के बाद 74 साल की उम्र में राम विलास पासवान का निधन हो गया, जो कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे। बता दें कि केंद्रीय मंत्री का पार्थिव शरीर शुक्रवार शाम पांच बजे दिल्ली से पटना पहुंचा। जहां उनके दर्शन के लिए हजारों के तदाद में समर्थक पहुंचे थे, जो उनके पार्थिव शरीर को देखकर रो पड़े।

आपको बता दें कि 70 के दशक में लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार के साथ अपना राजनीतिक करियर शुरू करने वाले रामविलास पासवान 1969 में पहली बार अलौली सीट से विधानसभा चुनाव जीते थे। 1977 में पहली बार लोकसभा चुनाव जीतने वाले पासवान 9 बार लोकसभा सांसद रहे। इसी दौरान साल 2000 में उन्होंने लोक जनशक्ति पार्टी का गठन किया था।

बता दें कि रामविलास पासवान बिहार के एकलौते नेता थे, जिन्होंने देश के छह प्रधानमंत्री के साथ काम किया । जिनमें प्रमुख विश्वनाथ प्रताप सिंह, एचडी देवेगौड़ा, इंद्र कुमार गुजराल, अटल बिहारी वाजपेयी, डॉ मनमोहन सिंह और नरेंद्र मोदी सरकार में पासवान मंत्री रहे। जिन्होंने अपने कार्यकाल में कई ऐतिहासिक काम भी किए।

From around the web