बिहार : सीएम नीतीश का बड़ा बयान, नहीं चाहते थे सीएम बनना, लेकिन...

 

नई दिल्ली : बिहार विधानसभा चुनाव 2020 का परिणाम आने के बाद बिहार में दूसरी पार्टी बनकर उभरी जदयू प्रमुख नीतीश कुमार के सीएम बनने के बाद लगातार विपक्षी पार्टियों ने हमला करते हुए कहा था कि उन्हें ये पद नहीं छोड़ देना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने सत्तालोलुप नेता भी बताया। जिसके बाद आज सीएम नीतीश कुमार का बड़ा बयान सामने आया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि वे सीएम नहीं बनना चाहते थे।

आपको बता दें कि 27 दिसंबर को जेडीयू कार्यकारिणी बैठक में ये फैसला लिया गया कि अब जेडीयू का राष्ट्रीय अध्यक्ष नियुक्त नीतीश कुमार नहीं बल्कि आरसीपी सिंह होंगे, जो नीतीश के काफी करीबी माने जाते है। आरसीपी सिंह आईएएस कैडर के सेवानिवृत पदाधिकारी भी हैं, साथ ही काफी दिनों से जेडीयू संगठन को मजबूत करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहे हैं। हालांकि अभी तक आधिकारिक तौर पर इसका ऐलान नहीं हुआ है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बैठक में कहा की मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय अध्यक्ष रहना सही बात नहीं है। हम तो हैं ही, साथ रहेंगे ही। आरसीपी सिंह कि अगुवाई में पार्टी और आगे बढ़ेगी। मैं तो मुख्यमंत्री बनना भी नहीं चाहता था, लेकिन लोगों ने कहा तो मैंने पद सम्भाला। पार्टी दफ़्तर के बाहर आरसीपी सिंह समर्थकों में उत्साह देखा जा रहा है।

आपको बता दें कि जेडीयू की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में आरसीपी सिंह को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव नीतीश कुमार ने दिया, जिसे सर्वसम्मति से तमाम सदस्यों ने समर्थन दिया। आज की इस बैठक में देश के वर्तमान राजनीतिक हालात पर मंथन चल रहा है। पश्चिम बंगाल समेत अन्य राज्यों में होने वाले चुनाव में भाग लेने पर भी बैठक में निर्णय लिया जा सकता है। इसके बाद आगे की रणनीति पर निर्णय लिया जाएगा।

From around the web