RJD नेता शिवानंद तिवारी का बड़ा बयान, राहुल गांधी को बताया नॉन सीरीयस पर्यटक

 

नई दिल्ली: बिहार विधानसभा चुनाव में महज 12 वोटों से हारने के बाद RJD नेता शिवानंद तिवारी ने बड़ा बयान दिया है। आपको बता दें कि इस बयान में उन्होंने हार का ठीकरा कांग्रेस और कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर फोड़ा है। साथ ही राहुल गांधी को नॉन सीरीयस पर्यटक भी बताया है। आरजेडी नेता शिवानंद तिवारी ने रविवार को दिये एक बयान में कहा था किपको बता दें कि इस बयान में उन्होंने हार का ठीकरा कांग्रेस और कांेक लगती सी नजर आई। गौ, ''जब बिहार में चुनाव अपने पूरे शबाब पर था, तब राहुल गांधी शिमला में प्रियंका गांधी के फार्म हाउस पर पिकनिक मना रहे थे।'' इसके साथ ही, उन्होंने यह भी कहा कि बिहार चुनाव में प्रियंका गांधी ने कोई रैली नहीं की और ऐसे लोगों को प्रचार के लिए भेजा गया, जिन्हें यहां के बारे में कुछ पता ही नहीं था।


तिवारी ने कहा कि, ''कांग्रेस जिस तरह से चुनाव लड़ रही है, उससे बीजेपी को ही फायदा पहुंचा रही है। उन्होंने 70 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ा था लेकिन 70 रैलियां भी नहीं की। जो लोग बिहार को जानते नहीं थे, उनके हाथ में प्रचार की कमान थी। राहुल गांधी तीन दिन के लिए आए जबकि प्रियंका गांधी तो आईं भी नहीं।'' आपको बता दें कि शिवानंद के इस बयान के बाद बीजेपी नेता गिरिराज सिंह ने भी बड़ा हमला किया। गिरिराज ने ट्वीट कर कहा कि, ''राहुल गांधी जी के बारे में बिहार में महागठबंधन के सहयोगी पार्टी आरजेडी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी कहते हैं कि राहुल गांधी नॉन सीरीयस पर्यटक राजनेता है। शिवानंद जी तो राहुल जी को ओबामा से ज्यादा जानने लगे हैं। फिर भी कांग्रेस चुप क्यों है?''


गौरतलब है कि अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने संस्मरण 'ए प्रॉमिस्ड लैंड' में राहुल गांधी का जिक्र करते हुए, उन्हें नर्वस बताया था। बराक ओबामा ने कहा था कि उनमें एक ऐसे 'घबराए' हुए और अनगढ़ छात्र के गुण हैं जिसने अपना पूरा पाठ्यक्रम पूरा कर लिया है और वह अपने शिक्षक को प्रभावित करने की चाहत रखता है लेकिन उसमें 'विषय' में महारत हासिल करने की योग्यता या फिर जूनून की कमी है। आपको बता दें कि संस्मरण में ओबामा ने राहुल की मां और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का भी जिक्र किया था।

बता दें कि बिहार में पिछले तीन चरणों में विधानसभा चुनाव हुए थे, जिसके परिणाम आ चुके है। NDA गठबधन ने जहां 125 सीटें हासिल कर बढ़त बनाई, वहीं महागठबंधन 110 सीटों पर ही सिमट गया। आपको बता दें कि 243 सीटों पर विधानसभा चुनाव हुए हैं।

From around the web