India vs Australia 1st Test Day 1: पहले दिन का खेल समाप्त, भारत का स्कोर 233/6 (89 ओवर)

 

नई दिल्ली: साल 2020 की सबसे बड़ी क्रिकेट सीरीज (Border- Gavaskar Trophy) एडिलेड में खेला जा रहा है. मुकाबले में टीम इंडिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। टीम इंडिया ने 89 ओवर में 6 विकेट खोकर 233 रन बना लिए हैं। रविचंद्रन अश्विन 15 और ऋद्धिमान साहा 9 रन बनाकर क्रीज पर हैं। शतक की तरफ बढ़ रहे विराट कोहली बदकिस्मती का शिकार हो गए। रहाणे जब गेंद को हिट करने के बाद रन लेने के लिए दौड़े तब नॉन स्ट्राइकर इंड पर मौजूद कोहली भी तेजी से  दौड़े लेकिन वो रन आउट हो गए। विराट कोहली ने संभलकर खेलते हुए अपना अर्धशतक पूरा किया और 74 रन बनाकर टीम इंडिया को मजबूती दी, ये किंग कोहली का टेस्ट क्रिकेट की 23वीं हाफ सेंचुरी है। 


पहले सत्र में भारत ने दो विकेट खोकर 41 रन बनाए थे। आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की अनुशासित गेंदबाजी के सामने रन बनाना आसान नहीं था और शुरुआती झटकों के बाद भारत पर दबाव भी था। ऐसे में पुजारा ने अपने चिर परिचित अंदाज में विकेट पर टिककर बल्लेबाजी की।

पुजारा इसी तरह की बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं। भारत के पिछले आस्ट्रेलियाई दौरे पर भी पुजारा ने इसी अंदाज में बल्लेबाजी कर आस्ट्रिलायई गेंदबाजों को थका दिया था। उनके साथ कोहली ने भी धीमी बल्लेबाजी की। उनका ध्यान भी इसी बात पर था कि मेजबान टीम विकेट नहीं ले पाए। हालांकि लॉयन ने पुजारा को आउट कर भारत को तीसरा झटका दिया। पुजारा ने 160 गेंदों का सामना कर 43 रन बनाए। उनकी पारी में सिर्फ दो चौके शामिल रहे। कोहली अभी तक 111 गेंदों का सामना कर चुके हैं। इनमें से चार ही गेंदों पर उन्होंने चौके लगाए हैं। पुजारा और कोहली ने तीसरे विकेट के लिए 68 रन जोड़े।

पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारत को दूसरी ही गेंद पर मिशेल स्टार्क ने झटका दे कर दबाव में ला दिया। स्टार्क की इनस्विंगर पृथ्वी शॉ के बल्ले का किनारा लेकर विकेट पर जा लगी। शॉ खाता नहीं खोल पाए।

दूसरे सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल ने पुजारा के साथ संभलकर बल्लेबाजी की। मयंक भी आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों के सामने संघर्ष कर रहे थे जिसका अंत 19वें ओवर की पहली ही गेंद पर पैट कमिंस ने कर दिया। 40 गेंदों पर 17 रन बनाने वाले मयंक 32 के कुल स्कोर पर बोल्ड हो गए। उन्होंने अपनी पारी में दो चौके मारे।

फिर कोहली ने मैदान पर दस्तक दी और पुजारा के साथ मिलकर पहले सत्र का अंत नाबाद रहते हुए किया। दूसरे सत्र में भी यह दोनों आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को विकेट के लिहाज से मायूस करने में काफी हद तक सफल रहे, लेकिन अंत में लॉयन ने आस्ट्रेलियाई टीम को पुजारा का विकेट दिल ही दिया।

From around the web