Ravish Kumar Promoting Betting App Viral Video Fact Check
Ravish Kumar Promoting Betting App Viral Video Fact Check

टीवी के मशहूर पत्रकार रवीश कुमार का सोशल मीडिया पर एक वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें वो बेटिंग ऐप का प्रमोशन करते नजर आ रहे हैं। वीडियो में उन्होंने Aviator App 1WIN नाम के बेटिंग ऐप को प्रमोट करते हुए लोगों से इसे मुनाफा कमाने के लिए खेलने की अपील की है।

क्या है वायरल?

बता दें कि ‘Aviator Play’ नाम के फेसबुक यूजर ने इस वीडियो को शेयर किया है, जिसमें रवीश कुमार को बेटिंग या सट्टा ऐप को प्रोमोट करते हुए देखा जा सकता है।

हालांकि टूडे समाचार ने अपनी पड़ताल में पाया है कि बेटिंग या सट्टा ऐप को प्रोमोट करते हुए रवीश कुमार का ये वायरल वीडियो फेक है। इस वीडियो में डीपफेक का इस्तेमाल किया गया है। गौरतलब है कि इस वीडियो में रवीश कुमार के डीपफेक का इस्तेमाल करते हुए धोखाधड़ी के इरादे से इस वीडियो को क्रिएट किया गया है। बता दें कि इससे पहले सचिन तेंदुलकर और रश्मिका मंदाना जैसे स्टार भी डीपफेक का शिकार हो चुके हैं।

फैक्टचेक

अपनी पड़ताल की शुरूआत करते हुए टूडे समाचार ने सबसे पहले वीडियो पर गौर किया तो इसमें रवीश कुमार का क्लिप महज कुछ सेकेंड का ही है। वहीं इसके बाद एक ट्रक ड्राइवर की वीडियो क्लिप है, जो इस ऐप  के जरिए करीब 800 मिलियन रुपये जीतने का दावा कर रहा है।

वीडियो में रवीश कुमार के ऑफिशियल यूट्यूब चैनल का जिक्र भी किया गया है। ऐसे में हमने उनके आधिकारिक यूट्यूब चैनल को भी खंगाला, लेकिन हमें ऐसी कोई वीडियो नहीं मिली।

वहीं इस पड़ताल के दौरान हमें ‘Ravish Kumar’ के फेसबुक पेज पर शेयर किया गया एक वीडियो मिला, जिसे 4 अगस्त 2023 को अपलोड किया गया था। इस वीडियो में रवीश कुमार ने डीपफेक की ही समान घटना का जिक्र किया है। उन्होंने वीडियो में कहा है कि, “ये एक और फ्रॉड है जो मेरी तस्वीर का इस्तेमाल कर रहा है। बड़ी संख्या में दर्शकों और पाठकों ने इस तरह के लिंक और स्क्रीन शॉट भेजे हैं कि गेमिंग एप मेरा चेहरा लगाकर पैसा वसूल रहा है। आप सावधान रहे। मेरे नाम से कोई भी अपील करे, पैसा न दें।”

वहीं अंत में आखिरकार हमारी टीम ने अधिक स्पष्टिकरण के लिए सीधे रवीश कुमार से ही संपर्क किया और वायरल वीडियो के बारे में उनसे पूछा, तो उन्होंने बताया कि “यह उनका डीप फेक वीडियो है।”

अत: टूडे समाचार की इस पड़ताल से ये साबित हो गया कि रवीश कुमार का बेटिंग ऐप को प्रमोट करता हुआ ये वीडियो पूरी तरह से फर्जी है, जिसे धोखाधड़ी के इरादे से बनाया गया है। इस वीडियो में रवीश कुमार के डीपफेक का इस्तेमाल किया गया है।

Verify information accuracy with fact-checking: scrutinize claims, cross-reference sources, and confirm data to ensure reliability and combat misinformation.