बिहार में बने छोटे भाई को अरुणाचल प्रदेश में बड़े भाई ने दिया झटका

 

नई दिल्ली : बिहार विधानसभा चुनाव के परिणाम सामने आने के बाद छोटे भाई के तौर पर सामने आई जदयू को बिहार में बड़े भाई बनकर सामने आये बीजेपी ने अरूणाचल प्रदेश में बड़ा झटका दिया है। जिससे अब इस प्रदेश में जदयू का सिर्फ 1 ही विधायक ही रह गया। गौरतलब है कि हालिया विधानसभा चुनाव में बिहार में बीजेपी, हम और वीआईपी की मदद से मुख्यमंत्री बने नीतीश कुमार मुख्यमंत्री की पार्टी के छह विधायक अरुणाचल में बीजेपी में शामिल हो गए है।

राज्य विधानसभा द्वारा जारी बुलेटिन के मुताबिक, पीपुल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल (पीपीए) के लिकाबाली निर्वाचन क्षेत्र से विधायक करदो निग्योर भी बीजेपी में शामिल हो गए हैं। वहीं रमगोंग विधानसभा क्षेत्र के तालीम तबोह, चायांग्ताजो के हेयेंग मंग्फी, ताली के जिकके ताको, कलाक्तंग के दोरजी वांग्दी खर्मा, बोमडिला के डोंगरू सियनग्जू और मारियांग-गेकु निर्वाचन क्षेत्र के कांगगोंग टाकू भी बीजेपी में शामिल हो गए हैं।

आपको बता दें कि जदयू को यह झटका तब लगा है, जब अरूणाचल प्रदेश में पंचायत और नगर निगम चुनाव के नतीजों की घोषणा एक दिन बाद होनी है। बता दें कि जेडीयू ने 26 नवम्बर को सियनग्जू, खर्मा और टाकू को ‘‘पार्टी विरोधी’’ गतिविधियों के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया था और उन्हें निलंबित कर दिया था।

बता दें कि इसके पहले जेडीयू के इन छह विधायकों ने पार्टी के परिष्ठ सदस्यों को कथित तौर पर बिना बताए तालीम तबोह को विधायक दल का नया नेता चुन लिया था। वहीं पीपीए विधायक को भी क्षेत्रीय पार्टी ने इस महीने की शुरुआत में निलंबित कर दिया था।

अरुणाचल प्रदेश के प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष बीआर वाघे ने कहा कि, ‘‘ हमने पार्टी में शामिल होने के उनके पत्रों को स्वीकार कर लिया है।’’ आपको बता दें कि 60 विधानसभा वाले अरूणाचल प्रदेश चुनाव में बीजेपी 37 सीट हासिल कर सबसे बड़ी पार्टी बनी थी, वहीं अब इन 6 विधायकों के शामिल होने से बीजेपी के कुल विधानसभा सीटों की संख्या 43 हो गई।

From around the web