तलाक के लिए कोर्ट पहुंची महिला, जज बोले- पहले करवा चौथ मनाओ, फिर मिलेगा तलाक !

 

रिपोर्ट- रितिका आर्या

मध्य प्रदेश की भोपाल से ऐसा मामला सामने आया है जो आपको हैरान कर देगा। दरअसल, यहां भोपाल की फैमिली कोर्ट में एक महिला पति से तलाक की लेने के लिए पहुंची थी। महिला का कहना है कि उसने इसी शर्त पर शादी के लिए हामी भरी थी कि वह अपनी पढ़ाई नहीं छोड़ेगी लेकिन शादी के बाद महिला के ससुराल वालों ने उस पर पढ़ाई बंद करा कर करा दी जिसके बाद पति और पत्नी के बीच विवाद इस कदर बढ़ गया कि उन्होंने तलाक लेने के लिए कोर्ट का रूख कर दिया। इस मामले के लिए दोनों पक्षों को भी मामले को काउंसिलिंग के लिए भेज दिया है साथ ही दोनों पक्षों को बातचीत के लिए बुलाया गया। काउंसिलिंग के लिए महिला का पति और उसकी सास पहुंचे। इस दौरान दोनों द्वारा महिला के खिलाफ आरोप लगाए गए। काउंसलिंग के दौरान काउंसलर नुरुनिशा खान ने तलाक की अर्जी लेकर पहुंची महिला को समझाया और पूरे मामले की जानकारी जज को दी। जब इस मामले में कोर्ट में सुनवाई शुरू हुई तो कोर्ट ने महिला से कहा कि वह पहले करवा चौथ मनाकर आए उसके बाद ही अपनी पूरी रिपोर्ट कोर्ट में दर्ज करें।

आपको बता दें, अब मामले की अगली सुनवाई 11 नवंबर को होगी। महिला काउंसलिंग सभागार से ही मंगलवार को पति और सास के साथ चली गई। काउंसलर खान ने बताया कि ऐसे कई सामने आए जब पति, बहू और सास तीनों भावुक हुए और सास नहीं चाहती कि उसके बेटे का परिवार टूटे। 

महिला ने पढ़ाई नहीं करने देने का आरोप लगाया

महिला ने आरोप लगाया कि उसका रिश्ता लेकर ससुराल वाले आए थे, उस समय वह पढ़ाई कर रही थी। पति बरेली, रायसेन में नगरपालिका में क्लर्क है। पति 12वीं पास है जबकि पत्नी ने स्नातक की पढ़ाई की हुई है। महिला ने कहा कि मेरे माता-पिता ने 12वीं पास लड़के से इसलिए शादी करा दी क्योंकि उसकी सरकारी नौकरी थी। 

महिला ने बताया कि शादी तय होने के दौरान मैंने साफ कह दिया था कि मैं आगे पढ़ाई करूंगी और नौकरी भी करूंगी। तब इस पर सभी ने सहमति भी जताई थी। महिला ने बताया कि वह शादी के दौरान वकालत की पढ़ाई कर रही थी लेकिन बाद में पति और सास ने मेरी पढ़ाई रुकवा दी। 

मारपीट की नौबत आई

महिला नौकरी करना चाहती थी लेकिन पति नहीं चाहता था कि वह घर से बाहर निकले। इसे लेकर विवाद इतना बढ़ा कि मारपीट तक की नौबत आ गई। 

सास ने मानी पढ़ाई जारी रखवाने की बात

महिला की सास का कहना कि शादी से पहले उसने और उसके बेटे ने लड़की की पढ़ाई आगे जारी रखवाने के लिए हामी भरी थी, लेकिन अब वो चाहते हैं कि बहू अपनी वकालत की पढ़ाई करने के बाद घर-गृहस्थी संभाले। सास का कहना है कि वह नहीं चाहती कि उसके बेटे का घर टूटे।

From around the web