सरदार वल्लभ भाई पटेल की 145वीं जयंती आज, पीएम मोदी एवं गृह मंत्री शाह ने किया भावुक याद

 

नई दिल्ली : देश के पहले गृहमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की 145वीं जयंती है, जिन्हें हम लौहपुरूष के भी नाम से जानते है। आपको बता दें कि स्वतंत्र भारत को एकीकरण करने में सरदार पटेल का बहुत ही अमूल्य योगदान है, जिस कारण आज हमारा देश विविधताओं का प्रदेश होने के बावजूद भी अपनी एकात्मता का पहचान रखता है। आपको बता दें कि 31 अक्टूबर 2020 को पीएम मोदी एवं गृह मंत्री अमित शाह समेत देश के कई दिग्गज नेताओं ने सरदार पटेल को भावभीनी श्रद्धांजलि देने के साथ ही उन्हें याद भी किया।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार पटेल की जंयती पर ट्वीट कर लिखा कि, ''राष्ट्रीय एकता और अखंडता के अग्रदूत लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल को उनकी जन्म-जयंती पर विनम्र श्रद्धांजलि।''


गृह मंत्री अमित शाह ने लिखा, ''राष्ट्रीय एकता के प्रतिबिंब व हर भारतीय के हृदय में बसने वाले लौह पुरुष सरदार पटेल जी को कोटिश: नमन. आजादी के बाद सैकड़ों रियासतों में बिखरे भारत का एकीकरण कर, उन्होंने आज के मजबूत भारत की नींव रखीं। उनका दृढ़ नेतृत्व, राष्ट्र समर्पण व विराट योगदान भारत कभी नहीं भुला सकता।''


गृह मंत्री ने अन्य दूसरे ट्वीट में लिखा, ''संविधान एवं सनातन के संतुलन के अद्वितीय प्रतीक सरदार पटेल ने देश के एकीकरण से लेकर सोमनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण तक अपने जीवन का क्षण-क्षण भारत में एक राष्ट्र का भाव जागृत करने के लिए अर्पित किया। कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से ऐसे महान राष्ट्रभक्त लौह पुरुष सरदार पटेल के चरणों में वंदन।''


सरदार पटेल को याद करते हुये रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लिखा कि, ''भारत के प्रथम गृहमंत्री एवं देश को एकता के सूत्र में पिरोने वाले सरदार वल्लभभाई पटेल को उनकी जयंती के अवसर पर स्मरण एवं नमन करता हूं। आज के दिन हम सभी को यह संकल्प पुनः दुहराने की जरूरत है कि राष्ट्र की एकता, अखंडता और सुरक्षा को बनाए रखने के लिए स्वयं को सदैव समर्पित करेंगे।''

आपको बता दें कि गुजरात में सरदार पटेल की याद में दुनिया का सबसे बड़ा स्टैच्यू बना है, जिसने कई रिकॉर्ड अपने नाम किये है।  

From around the web