मुंबई जैसा हमला करना चाहते थे नगरोटा में मारे गए आतंकी, लेकिन सेना ने जिंदा जलाया

 

नई दिल्ली: गुरुवार को जम्मू-कश्मीर के नगरोटा में मारे गए आतंकवादियों को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है, इंडिया टीवी को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आतंकवादी 26/11 की बरसी पर किसी बड़े आतंकी हमले को अंजाम देने के लिए भारतीय सीमा में घुसे थे। आतंकवादियों के पास से जितनी मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद हुए हैं उन्हें देखते हुए लग रहा था कि वे ट्रेंड आतंकी हैं और किसी बड़े हमले को अंजाम देने के लिए भारतीय सीमा में घुसे ते, अब  सूत्रों से इसकी पुष्टि की है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक नगरोटा में आतंकियों के मारे जाने की घटना के बाद आज शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गृह मंत्री, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और विदेश सचिव तथा इंटेलिजेंस एजेंसियों के अधिकारियों के साथ बैठक की है।

नगरोटा में मारे गए आतंकवादियों के पास से सुरक्षा बलों को हथियारों का बड़ा जखीरा मिला है, आतंकवादियों के पास से 11 एके 47 राइफलें, 3 पिस्टल, 29 ग्रेनेड( फायर करने से बचे हुए), 6 यूबीजीएल ग्रेनेड, मोबाइल फोन, कंपस, और अन्य कई सारे डिवाइस तथा पिट्ठू बैग बरामद हुए हैं। हथियारों के इतने बड़े जखीरे को देखकर लग रहा था कि आतंकवादी किसी बड़ी आतंकी घटना की फिराक में थे। आतंकवादियों के पास से पाकिस्तान की दवा कंपनियों मे बनी दवाएं भी बरामद हुई हैं। 2008 में मुंबई में हुए 26/11 आतंकी हमले में भी आतंकवादी बड़ी मात्रा में अपने साथ हथियार और दवाएं लेकर आए थे और हमले को अंजाम दिया था।

दरअसल जम्मू-कश्मीर में डीडीसी चुनाव प्रक्रिया शुरू हुई है आतंकवादी उस चुनाव प्रक्रिया को बाधित करना चाहते थे, उसको लेकर इंटेलिजेंस इनपुट थे कि कुछ घुसपैठ संभावित है और आतंकी भारी हथियार लेकर घुपपैठ की कोशिश में हैं। उन्होंने बताया कि पिछले 2-3 वारदातों के बाद सभी नाकों को अलर्ट कर दिया था और बता दिया था कि सभी नाकों को पर्याप्त मात्रा में सुरक्षा बल तैनात रहे।

From around the web