दुनिया की सबसे खतरनाक ट्रेनिंग ले चुके थे नगरोटा में मारे गए आतंकी, ऐसे हुआ खुलासा…

 

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर के नगरोटा में सुरक्षाबलों ने गुरुवार को चार आतंकियों को मार गिराया था। आतंकी भारत में 26/11 जैसे आतंकी हमले की फिराक में थे। नगरोटा एनकाउंटर को लेकर विस्तृत जांच चल रही है। अब इस जांच में खुलासा हुआ है कि 2016 के पठानकोट हवाई हमले के मुख्य आरोपी जैश का ऑपरेशनल कमांडर कासिम जान भी इसमें शामिल था। कासिम संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आतंकी मुफ्ती रऊफ असगर को सीधे रिपोर्ट करता है।

बताया जा रहा है कि कासिम जैश आतंकवादियों के मुख्य लॉन्च कमांडरों में से एक है और पूरे दक्षिण कश्मीर में अंडरग्राउंड आतंकियों से उसके संबंध हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय आतंकवाद रोधी अधिकारियों के मुताबिक, अफगानिस्तान से अमेरिकी सेनाओं की वापसी और तालिबान के साथ समझौते के बाद जैश जम्मू कश्मीर सीमा पर एक्टिव हो गया है।

रिपोर्ट में भारतीय सुरक्षाअधिकारी के हवाले से बताया गया है कि करीब 14 आतंकी गुजरांवाला से भारत में घुसपैठ करने की फिराक में हैं। वहीं, कुल 200 आतंकी भारत में घुसपैठ करने के लिए एलओसी के पास लॉन्च पैड में इंतजार कर रहे हैं। एक अन्य अफसर ने बताया, हम अल-बद्र समूह के साथ साथ श्कर-ए-मुस्तफा को भी एक्टिव होता देख रहे हैं। यह खैबर-पख्तूनख्वा स्थित कैंप में 23 आतंकियों को प्रशिक्षण दे रहा है।

वहीं, रिपोर्ट में अन्य सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि नगरोटा में मारे गए चारों आतंकी कमांडो ट्रेनिंग लेकर भारत आए थे। वे शकरगाह में सांबा सीमा पर जैश के शिविर से करीब 30 किमी पैदल चल कर जटवाल में पिकअप पॉइंट तक पहुंचे थे। यह इलाका सांबा से कठुआ तक 6 किमी का है। इसका मतलब ये है कि हमलावर अंधेरी रात में पिक अप पॉइंट तक पहुंचे, फिर यहां से जम्मू कश्मीर आए।

From around the web