दो नवंबर से खुल रहे हैं इन राज्यों में स्कूल, लेकिन करना होगा इन नियमों का पालन

 

रिपोर्ट- रितिका आर्या

कोरोना संकट के बीच लगाए गए लॉक डाउन में अब ढ़ीलाई का दौर शुरू हो गया है। अनलॉक की प्रक्रिया के साथ ही मार्केट-सिनेमा हॉल से लेकर स्कूल-कॉलेज खोलने की तैयारी पूरी हो चुकी है। जहां, अनलॉक 5 की गाइडलाइन के बाद कई राज्यों स्कूल-कॉलेज को खोल दिया है। तो वहीं अब दो नवंबर से हिमांचल प्रदेश, आंध्र प्रदेश समेत कई राज्य स्कूल खोलने जा रहें हैं। तो चलिए आपको बताते हैं क्या है स्कूल-कॉलेज खोलने की तैयारी और क्या होंगे नियम।

बता दें, हिमाचल प्रदेश सरकार ने 2 नवंबर से9 से 12 वीं कक्षा केत्रों के लिए नियमित आधार पर स्कूलों को फिर से खोलने का निर्णय लिया है। हालांकि बच्चों के स्कूल आने के लिए परिवार वालों की रजामदी जरूरी होगी।

एसओपी और गाइडलाइन का पालन करते हुए खुलेंगे स्कूल

असम में भी 2 नवंबर से ही स्कूल खुलने जा रहे हैं। करीब 7 महीने बाद खुलने जा रहे स्कूलों को फिर से खोलने के दौरान सख्ती से पालन हो इसके लिए राज्य के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने शिक्षा विभाग को निर्देश दिया है।2 नवंबर से क्लास 6 और उससे ऊपर के छात्रों के लिए क्लासेज लगेंगी।

असम के शिक्षा विभाग ने जानकारी देते हुए कहा कि हर हफ्ते कक्षा 6, 7, 9 और 12 के छात्र सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को पढ़ाई कर पाएंगे। जबकि कक्षा 8, 10 और 11 के बच्चों को मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को रिपोर्ट करनी होगी। इसके अलावा 1, 3 और 5 वें सेमेस्टर के कॉलेज के छात्रों को सप्ताह के बाद क्रमशः दो, तीन और चार दिनों के लिए कक्षाएं होंगी। कक्षाएं दो चरणों में शुरू होंगी और प्रत्येक चरण में अधिकतम 25 छात्रों को ही अनुमति दी जाएगी।

आंध्र प्रदेश के स्कूलों का अपडेट

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने घोषणा की कि आंध्र प्रदेश के स्कूलों को छात्रों के लिए वैकल्पिक दिनों के आधार पर 2 नवंबर से फिर से खोला जाएगा। आंध्र प्रदेश के सीएमओ के हवाले से एक रिपोर्ट के अनुसार कक्षा 1,3,5,7,9 के छात्र एक दिन में स्कूल जा सकते हैं और अगले दिन 2,4,6,8 की कक्षाएं होंगी। आंध्र प्रदेश के स्कूल नवंबर के लिए आधे दिन काम करेंगे और छात्र लंच के बाद घर जाएंगे।

उत्तराखंड में भी दो नवंबर से खुलेंगे स्कूल

उत्तराखंड सरकार ने 2 नवंबर 2020 से 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए स्कूलों को फिर से खोलने की अनुमति दी है। कक्षाओं में भाग लेने के लिए छात्रों को अपने माता-पिता से लिखित अनुमति लेने की आवश्यकता होगी और एसओपी का सख्ती से पालन किया जाएगा।

स्कूल के लिए ये होंगे नियम

फर्नीचर, स्टेशनरी, कैंटीन, लैब के साथ ही पूरे परिसर और क्लास रूम का रोज सैनिटाइजेशन होगा। एक क्लास में एक दिन 50 फीसदी ही बच्चे ही बैठेंगे। दूसरे दिन बाकी के बच्चों की पढ़ाई होगी। दो स्टूडेंट्स के बीच 6 फीट की दूरी अनिवार्य होगी। इसके अलावा सबसे सख्त नियम ये है कि कोई भी स्टूडेंट अपने अभिभावक की बिना लिखित अनुमति के स्कूल नहीं आ सकेगा।

वहीं दिल्ली, पश्च‍िम बंगाल सरकार ने अभी स्कूलों को नहीं खोलने का फैसला लिया है। कोरोना के गंभीर संकट को देखते हुए इन राज्यों ने कहा है कि अभी बच्चों के स्वास्थ्य के साथ रिस्क नहीं ले सकते। बता दें कि मिजोरम राज्य में स्कूल खोलने के बाद कोरोना संकट के बाद बंद कर दिए गए थे।

From around the web