दिल्ली में लगातार बढ़ रहा प्रदूषण का स्तर, विजिबिलिटी हुई बेहद कम

 

नई दिल्ली : देश में तेजी से बढ़ते ठंड के बीच स्मॉग भी लगातार अपना कहर बरपा रहा है, जिसे लेकर आंखों में तेज जलन होने के साथ ही विजिबिलिटी भी बेहद कम हो गई है। जिससे सुबह-सुबह अपने ऑफिस या घर को जाने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आपको बता दें कि देश की राजधानी दिल्ली की रफ्तार पर स्मॉग ने अपना कंट्रोल बना लिया है, जिससे इसकी रफ्तार बेहद कम हो गई है।

दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (DPCC) के आंकड़ों के अनुसार ओखला फेस-2 में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 344 ('बहुत खराब' श्रेणी) पर है। आपको बता दें कि गुरूवार को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के नोएडा, गाजियाबाद, फरीदाबाद में एयर क्वालिटी 'बेहद खराब' की श्रेणी में बरकरार रही, जबकि गुड़गांव में यह 'खराब' रही। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) के अनुसार इन पांच पड़ोसी शहरों में पीएम 2.5 और पीएम 10 जैसे बड़े वायु प्रदूषकों की मात्रा अधिक रही।

गौरतलब है कि 0 और 50 के बीच एक्यूआई को 'अच्छा', 51 और 100 के बीच 'संतोषजनक', 101 और 200 के बीच 'मध्यम', 201 और 300 के बीच 'खराब', 301 और 400 के बीच 'बेहद खराब' और 401 से 500 के बीच 'गंभीर' (आपात) श्रेणी में माना जाता है।

पिछले 24 घंटे में इन शहरों की AQI

बोर्ड के अनुसार सीपीसीबी के समीर ऐप पर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आने वाले दिल्ली के पड़ोसी शहरों में अपराह्न चार बजे तक पिछले 24 घंटे का वायु गुणवत्ता सूचकांक गाजियाबाद में 328, ग्रेटर नोएडा में 327, नोएडा में 305, फरीदाबाद में 304, गुड़गांव में 293 दर्ज किया गया। आपको बता दें कि मंगलवार तक दिल्ली के इन सभी पांच शहरों में वायु गुणवत्ता पिछले एक सप्ताह से गंभीर श्रेणी में थी।

From around the web