दवा कंपनी Pfizer पर फूटा डोनाल्ड ट्रंप का गंभीर आरोप, कहा- चुनावों से पहले जानबूझकर नहीं की गई वैक्सीन की घोषणा

 

रिपोर्ट- रितिका आर्या

अमेरिका चुनाव में मिली हार के बाद से ही पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लगातार अपने नए बयानों के साथ सुर्खियों में बने हुए हैं। ट्रंप ने सोमवार को दवा कंपनी फ़ाइज़र और खाद्य एवं औषधि प्रशासन पर आरोप लगाया की जान बुझकर कोरोना वायरस के टीके की घोषणा नहीं की गई। क्योकि इससे उनकी  की जीत सुनिश्चित हो सकती थी।

वहीं अपने राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्वीट करते हुए कहा, “एफडीए और डेमोक्रेट्स चुनाव से पहले मुझे टीके का श्रेय नहीं देना चाहते थे, क्योंकि इससे उन्हें चुनाव में जीत हासिल हो सकती थी। खास बात यह है कि टीके की घोषणा मतदान के दिन पांच दिन बाद की गई।” ट्रंप ने जो बाइडन पर आरोप लगाते हुए बोला की अगर वो राष्ट्रपति होते तो अगले चार साल तक टीके नहीं मिलते और न ही एफडीए ने इसे  तुरंत मंजूरी दी होती।


फाइजर और जर्मनी की बायोटेक फर्म बायोएनटेक ने दावा किया है कि उनकी बनाई वैक्सीन कोरोना वायरस के इलाज में 90 फीसद से अधिक असरदार है। कंपनी में इसके आगे कुछ विस्तार से तो नहीं बताया पर नतीजों में थोड़ा बदलाव हो सकता है। अमेरिका के हाल ही में हुए चुनाव में जीत दर्ज करने वाले राष्ट्रपति जो बाइडन ने कोरोना का टीका बनाने वाले वैज्ञानिको को बधाई देते हुए कहा कि हमें यह समझना होगा कि कोरोना का खात्मा होने में अभी थोड़ा समय लगेगा।

आपको बता दें, अमेरिका में कोरोना के मामले कम होने का नाम ही नहीं ले रहे। जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के मुताबिक, अमेरिका में लगातार सातवें दिन एक लाख से ज्यादा केस सामने आए हैं। अमेरिका में संक्रमितों का आकड़ा बढ़कर 1.55 करोड़ के पार हो गया और अब तक 2.54 लाख लोगों ने अपनी जान गवाई है।

From around the web