साल 2020 के आखिरी दिन पीएम मोदी ने कहीं कोरोना महामारी को लेकर ये बात

 

नई दिल्ली : साल दर साल गुजर गये, ये भी साल गुजर गया। छोड़ गया अपने साथ पीछे बहुत सारे जख्म, पर तुम देना साथ मेरे हमदम। ये कहना जरूरी नहीं की जिस प्रकार कोरोना महामारी ने साल के शुरूआत के साथ ही साल के अंतिम क्षणों में भी लोगों की बेचैनी बढ़ा रखी है, वो काफी चिंता की विषय है। हालांकि इसी चिंता को लेकर पीएम मोदी ने भी देश के हित को लेकर बड़ी बात कही है।

पीएम मोदी ने कहा कि पहले मैं कहता था दवाई नहीं तो ढिलाई नहीं लेकिन अब मैं फिर से कह रहा हूं दवाई भी कड़ाई भी। कड़ाई भी बरतनी है और दवाई भी लेनी है। दवाई आ गई तो छूट मिलेगी ये भ्रम में मत रहना। 2021 का हमारा मंत्र रहेगा दवाई भी कड़ाई भी। उन्होंने कहा कि मेरा देशवासियों से आग्रह है कि कोरोना के खिलाफ एक अनजान दुश्मन के खिलाफ लड़ाई है अफवाहओं के बाज़ार गर्म न होने दें।

आपको बता दें कि पीएम मोदी ने ये बातें आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गुजरात के राजकोट में एम्स की आधारशिला रखने के दौरान कहीं। पीएम मोदी ने कहा कि नया साल दस्तक दे रहा है। आज देश के मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने वाली एक और कड़ी जुड़ रही है। राजकोट में एम्स के शिलान्यास से गुजरात सहित पूरे देश के स्वास्थ्य और मेडिकल एजुकेशन को बल मिलेगा।

साल का ये अंतिम दिन भारत के लाखों डॉक्टर्स, हेल्थ वॉरियर्स, सफाई कर्मियों, दवा दुकानों में काम करने वाले, और दूसरे फ्रंट लाइन कोरोना वॉरियर्स को याद करने का है। कर्तव्य पथ पर जिन साथियों ने अपना जीवन दे दिया है, उन्हें मैं आज सादर नमन करता हूं।

उन्होंने कहा कि साल 2020 में संक्रमण की निराशा थी, चिंताएं थी, चारों तरफ सवालिया निशान थे। लेकिन 2021 इलाज की आशा लेकर आ रहा है। वैक्सीन को लेकर भारत में हर जरूरी तैयारियां चल रही हैं। भारत में बनी वैक्सीन तेज़ी से हर लोगों तक पहुंचे इसके लिए कोशिशे अंतिम चरणों पर है।

From around the web