IPL में धड़ल्ले से चल रहे सट्टेबाजी का भंडाफोड़, 4 गिरफ्तार

 

सम्भल: IPL के 13वें सीजन इस बार भले ही कोरोना काल में शुरू हुआ हो लेकिन  IPL के शुरू होते ही क्रिकेट में सट्टेबाजी का धंधा इस कोरोना साल में भी फल -फूल रहा हैं। कोरोना वायरस के कारण जहां सभी तरह के व्यवसाय चरमरा गये हैं, वहीं आईपीएल के शुरू होते ही सट्टेबाजी का धंधा धड़ल्ले से चल रहा है। इसके चलते सट्टा गिरोह चलाने वाले और सट्टा लगाने वाले, दोनों की बल्ले-बल्ले हैं। हालांकि अन्य साल के मुकाबले इस साल सट्टा के कारोबार में कमी देखी गयी है। उत्तर प्रदेश के सम्भल में पुलिस ने आईपीएल (IPL) मैचों पर सट्टा लगाने के आरोप में चार लोगों को गिरफ्तार किया है। उन्हें सोमवार को उस समय गिरफ्तार किया गया जब IPL के 13वें सीजन का 10वा मैच रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और मुंबई इंडियंस मैच चल रहे थे।

सम्भल के पुलिस अधीक्षक (एसपी) यमुना प्रसाद ने कहा, "आईपीएल क्रिकेट सट्टेबाजी के लिए सोमवार शाम चार लोगों को गिरफ्तार किया गया। हमने 11 मोबाइल फोन और टेलीविजन सेट जब्त किए हैं।"उन्होंने कहा कि सट्टेबाजी गतिविधियों के खिलाफ अभियान जारी रहेगा। मामले में आगे की जांच जारी है। आईपीएल के  इस सीजन में किस टीम पर कैसा भाव लग रहा है, इस बात की जानकारी भी एक  सट्टेबाज ने नाम न छापने की शर्त पर  दी है।

मोबाइल ऐप के जरिए लगाया जा रहा है सट्टा...

एक सट्टेबाज ने  बताया कि आईपीएल में मुंबई इंडियंस की मौजूदा कीमत 4.90 रुपये है। उसके बाद  सनराइजर्स हैदराबाद है। इसकी कीमत 5.60 रुपये है। इसके बाद चेन्नई सुपर  किंग्स को पांच रुपये, रॉयल चैलेंजर्स बंगलुरु को 6.20 रुपये, दिल्ली कैपिटल्स को  6.40 रुपये, कोलकाता नाइट राइडर्स को 7.80 रुपये, किंग्स इलेवन पंजाब को 9.50  रुपये और राजस्थान रॉयल्स को 10 रुपये के हिसाब से भाव मिल रहा है। सट्टेबाज ने बताया कि जिस टीम की कीमत सबसे कम होती है, उसे काफी मजबूत  माना जाता है। अगर कोई मुंबई इंडियंस पर 1000 रुपये लगाता है कि मुंबई  जीतेगी और मुंबई की टीम जीत जाती है तो उसे 4,900 रुपये मिलेंगे। मैच रेट  ऊपर-नीचे हो सकता है। सट्टेबाजों को लिए आईपीएल काफी महत्व रखता है। हालांकि, भारत में सट्टा अवैध है। बावजूद इसके लोग सट्टेबाजी करते हैं। सट्टेबाज ने बताया कि आईपीएल हमारे और हमारे ‘क्लाइंट’ के लिए बड़ा  टूर्नामेंट होता है। इसके रद्द होने से काफी नुकसान होता। कई लोग इन मैचों  के लिए पैसा इकट्ठा करते हैं ताकि वो उधार चुकता सकें और यह पैसा व्यवसाय में लगा सकें।

From around the web