Hathras Case: एक तरफ युवती का अंतिम संस्कार, वही अधिकारी साइड में खड़े होकर लगाते रहे ठहाके

 

हाथरस : हाथरस में सामूहिक दुष्कर्म की शिकार 19 साल की दलित लड़की की मंगलवार सुबह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई। हाथरस में दलित युवती के साथ हुई दरिंदगी की पूरी देश निंदा कर रहा है।देश में गुस्सा है और युवती की मौत पर दुख जताया जा रहा है। लेकिन इस घटना के बीच भी उत्तर प्रदेश पुलिस का अमानवीय चेहरा सभी के सामने आ रहा है।

बता दें यूपी पुलिस हमेशा से आए दिन चर्चा में रहती है,और यूपी पुलिस का अमानवीय चेहरा बार बार जनता को देखने को मिलता रहता है। बता दें कि हाथरस में हुए दलित युवती से दरिंदगी के बाद एक बार फिर से यूपी पुलिस की घिनौनी करतूत सामने आई है। मंगलवार की देर रात जब युवती के शव को हाथरस ले जाया गया, तो तमाम विरोध के बाद भी पुलिस ने जबरन उसका अंतिम संस्कार कर दिया।

जब हाथरस की निर्भया की चिता जल रही थी. तब पुलिस के कई अधिकारी साइड में खड़े होकर बातें कर रहे थे और ठहाके लगा रहे थे. जो कि दिखाता है कि यूपी पुलिस इस मामले को लेकर कितनी असंवेदनशाल रही. एक ओर तो हाथरस की निर्भया का परिवार बिलख रहा था और इंसाफ की भीख मांग रहा था, तो दूसरी ओर प्रदेश की पुलिस इस तरह गप्पे लड़ा रही थी।

बता दें कि यूपी में हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव में 14 सितंबर को 19 साल की एक दलित लड़की के साथ कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म की वारदात हुई थी. पुलिस ने कहा कि पीड़िता को घटना के बाद अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था, सोमवार सुबह उसकी हालत गंभीर होने के कारण इलाज के लिये उसे दिल्ली भेजा गया था.

From around the web