गुलाम नबी आजाद ने कहा चीन के मुद्दे को लेकर सरकार के साथ बराबर खड़े हैं

 

नई दिल्लीसंसद के मानसून सत्र में जहां आज भारत-चीन सीमा विवाद के मसले पर राज्‍यसभा में चर्चा हुई। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के ताजा हालात पर अपना बयान दिया। राजनाथ सिंह के बयान पर कांग्रेस से राज्यसभा सांसद गुलाम नबी आजाद ने पार्टी का पक्ष रखा। आजाद ने कश्‍मीर के साथ अपने जुड़ाव का भी जिक्र किया। उन्‍होंने कहा कि "बहुत सारे लोग, मंत्री और एमपी शायद इन तीनों-चारों जगहों (पैंगोंग झील, चुशूल, गोगरा आदि) को नाम से जानते हैं। लेकिन सियाचिन में मुझे दो बार 17,000 फुट की ऊंचाई पर जाने का मौका मिला

आजाद ने आगे कहा, "सियाचिन में उनके (जवानों) भोजन करने का, फुटबॉल खेलने का भी अवसर मिला। चुशूल में आज से 30 साल पहले, जब मैं जूनियर मिनिस्‍टर था, बोटिंग करने का मौका मिला। फौजियों के साथ फिंगर 1, 2,3 देखने का अवसर मिला। श्रीनगर से चार दिन में जाकर मैं और राजीव गांधी चूशुल पहुंचे थे। बंकर में रात गुजारने का अवसर मिला। कश्‍मीर से हमारा जुड़ाव नागरिक होने के नाते आज से नहीं, जबसे पैदा हुए हैं तबसे है।"

कांग्रेस सांसद ने कहा कि उनकी पार्टी चीन के मुद्दे पर सरकार के साथ खड़ी है। आजाद ने कहा, "हमारा संपर्क फौज के साथ, देश की एकता और अखंडता के लिए उन्‍होंने जो कुर्बानी है, हम उस कुर्बानी में बराबरी के साथ कुर्बानी देने के लिए तैयार हैं। देते भी रहेंगे, देंगे भी। अपनी पार्टी की तरफ से मैं ये कहूंगा कि हम चीन के मुद्दे को लेकर सरकार के साथ बराबर खड़े हैं। जहां वो थे इस अप्रैल तक, वहीं उनको वापस जाना चाहिए। यही हमारा प्रयास होना चाहिए।"

From around the web