आखिरकार बीजेपी के सामने छोड़नी पड़ी जदयू को अपनी जिद, माननी पड़ी ये बात

 

नई दिल्ली : बिहार विधानसभा चुनाव के तारीखों के नजदीक आने के साथ ही सभी पार्टियां अपना कमर कस चुंकी है, इसे लेकर उन्होंने अपने सहयोगी दलों के साथ सीटों का बंटवारा भी शुरू कर दिया है। आपको बता दें कि बिहार में सबसे पहले सीटों का बंटवारा महागठबंधन पार्टी ने किया था, जिसके बाद ये तय हो गया की वे कितने सीटों पर लड़ेगी।

अब इनके ऐलान के ठीक 1 दिन बाद एनडीए ने भी अपने सीटों का बंटवारा कर दिया हैं। सूत्रों की मानें तो बीजेपी और जेडीयू के बीच सीट बंटवारे को लेकर डील सेट हो गई है। इसके अनुसार नीतीश कुमार को बीजेपी के सामने झुकना पड़ा। तय फॉर्मूले के मुताबिक जेडीयू 122 सीटों पर और भारतीय जनता पार्टी 121 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। आपको बता दें कि इससे पहले जेडीयू बीजेपी की कई परंपरागत सीटों पर भी दावेद ठोक रही थी, और उन सीटों पर अपने उम्मीदवार बात करने की बात कह रहे थे।  मगर अब उन्होंने यह मांग भी छोड़ दी है।

खबरों की मानें तो बीजेपी और जेडीयू के अलावा अन्य दो पार्टी लोजपा और हम को अपने कोटे से सीट देगी। लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि बीजेपी लोक जनशक्ति पार्टी को अपने कोटे से सीट तभी देगी अगर चिराग पासवान एनडीए का हिस्सा बने रहते हैं। क्योंकि पिछले कुछ दिनों से सीट बंटवारे को लेकर चिराग पासवान ने काफी कड़े तेवर दिखाए हैं और वह अकेले 143 सीटों पर चुनाव लड़ने के संकेत भी दे चुके हैं। इससे यह अनुमान लगाया जा रहा है कि लोजपा एनडीए से अलग होकर लड़ सकती है।

आपको बता दें कि इस साल बिहार चुनाव को तीन फेज में बांटा गया है, जो 28 अक्टूबर, 3 नवंबर और 8 नवंबर को होने है, जिसका परिणाम 10 नवंबर को आने है। अब देखना यह है कि इस चुनाव में कौन सी पार्टी किस पर भारी पड़ता है।

From around the web