28 साल बाद बाबरी विध्वंस पर फैसला, कोर्ट में आडवाणी, जोशी, भारती समेत ये लोग नहीं होगें मौजूद

 

नई दिल्ली:  अयोध्या में 6 दिसंबर, 1992 को गिराए गए विवादित ढांचे के मामले में CBI की विशेष अदालत आज फैसला सुनाएगी। इस मामले में BJP सीनियर नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह, उमा भारती, विनय कटियार समेत 32 आरोपी हैं। कोर्ट ने सभी आरोपियों को कोर्ट में मौजूद रहने को कहा था लेकिन फिलहाल पांच आरोपी कोर्ट में उपस्थित नहीं हो सकेंगे। बताया जा रहा है कि लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, रामचंद्र खत्री और सुधीर कक्कड़ सीबीआई कोर्ट में उपस्थित नहीं रहेंगे। पांचों आरोपियों की तरफ से उनके वकील कोर्ट में प्रार्थनापत्र दे सकते हैं।

लिहाजा ऐसे हाई प्रोफाइल मामले में फैसले के ध्यान में रखते हुए अयोध्या और लखनऊ में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। स्पेशल CBI कोर्ट ने आदेश जारी कर सभी आरोपियों को फैसले के दिन कोर्ट में मौजूद रहने को कहा है। कोर्ट की तरफ से BJP के सीनियर नेता लालकृष्ण आडवाणी समेत अन्य आरोपियों को नोटिस भेजा गया है।

फैसले को लेकर रामनगरी (अयोध्या) की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। चप्पे-चप्पे पर पुलिस फोर्स लगा दी गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, CID और LIU की टीमें सादी वर्दी में तैनात कर दी गई हैं। बाहरी लोग अयोध्या में आकर माहौल न बिगाड़ने पाएं इसको लेकर खास सतर्कता बरती जा रही है। पूरे जिले में चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। वहीं, लखनऊ में CBI की विशेष अदालत के बाहर करीब 2000 पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है। इसके अलावा प्रदेश के 25 संवेदनशील जिलों में सुरक्षा व्‍यवस्‍था तगड़ी कर दी गई है।

From around the web