BSF जवान ने कहा "मैं देश के लिए जीता हूँ पत्नी को कहां ले जाऊं"

बेड के लिए तड़पता रहा BSF जवान, रोते हुए बयां किया दर्द
 
BSF जवान ने कहा "मैं देश के लिए जीता हूँ पत्नी को कहां ले जाऊं"

रिपोर्ट : सौरभ सिंह 

रीवा: कोरोना वायरस की दूसरी लहर घातक साबित हो रही है और हर दिन सर्वाधिक मौतों का रिकॉर्ड बना रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गए ताजा आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 295,041 नए कोरोना केस आए और 2023 संक्रमितों की जान चली गई है। हालांकि 1,67,457 लोग कोरोना से ठीक भी हुए हैं। देश में कई जगहों पर आक्सीजन और बेड़ो की दिक्कत की खबर आ रही है वही केंद्र-सरकार और राज्य-सरकार आश्वासन दे रही है की सब कुछ सही कर लिया जायगा।

लेकिन एमपी में कोरोना मरीजों के लिए बेड की दिक्कत अभी बरकरार है। अस्पतालों के बाहर बेड के लिए मरीज तड़प रहे हैं लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है। एमपी के रीवा जिले से एक वीडियो सामने आया है, जिसमें एक बीएसफ जवान कार में अपनी पत्नी को लेकर भटक रहा है। पत्नी कोरोना से संक्रमित है। मगर इलाज के लिए बेड नहीं मिल रहा है। मीडियाकर्मियों को देख जवाने ने रोते हुए अपनी पीड़ा व्यक्त की है।

जवान का कहना है कि मैं पिछले आठ घंटे से अपनी पत्नी को कार में लेकर भटक रहा हूं। हर अस्पताल के लोग एक-दूसरे अस्पताल में भेज रहे हैं। कोई यह बताने को तैयार नहीं है कि मैं पत्नी को कहां भर्ती कराऊं। जवान हर आने जाने वाले लोगों से मदद की गुहार लगा रहा था। मीडियाकर्मियों की दखल के बाद जवान की पत्नी को रीवा के संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

From around the web