BJP नेताओं ने बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले के फैसले पर कही ये बात 

 

नई दिल्ली: 28 साल बाद बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले पर फैसला आखिरकार आ ही गया। सीबीआई के स्पेशल कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए 32 आरोपियों को केस से बरी कर दिया है।  केस की सुनवाई करते हुए जज एस.के यादव ने कहा है कि विवादित ढांचा गिराने की कोई साजिश नहीं थी। ये घटना अचानक हुई थी। ये फैसला आने के बाद विश्व हिंदू परिषद के नेता लड्डू बांट रहे हैं। गृह मंत्री अमित शाह ने पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी से फोन पर बातचीत की और उन्हें बधाई दी। वहीं बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद लाल कृष्ण आडवाणी से मिलने पहुंचे हैं।

बीजेपी नेता और बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा, "मैं 6 दिसंबर की पूरी घटना का गवाह था। यह सब कोई साजिश नहीं थी। मैं मंच से संचालन कर रहा था, मुझे आश्चर्य हुआ जब कुछ कार सेवकों ने बाबरी पर चढ़ाई की थी। आडवाणी जी बहुत दुखी थे, सत्यमेव जयते।"

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, 'लखनऊ की विशेष अदालत द्वारा बाबरी मस्जिद विध्वंस केस में लालकृष्ण आडवाणी, कल्याण सिंह, डॉ मुरली मनोहर जोशी, उमाजी समेत 32 लोगों के किसी भी साजिश में शामिल न होने के निर्णय का मैं स्वागत करता हूं, इस निर्णय से यह साबित हुआ है कि देर से ही सही मगर न्याय की जीत हुई है।'

वहीं बाबरी मस्जिद के पक्षकार ज़फ़रयाब जिलानी ने कहा है कि वह सीबीआई कोर्ट के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट जाएंगे। बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा, कोर्ट ने आरोपियों को बरी कर दिया है ये अच्छी बात है, हम इसका सम्मान करते हैं।

From around the web